RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Feb 19

ई - पेपर

Breaking News
पुलिस लाइन परिसर में पुलिस कर्मियों ने खेली होली |  लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रतियक्ष भागीरथ चौधरी पहुचे अजमेर |  पेशे से ऑटो चालक लेकीन ट्राफिक व्यवस्ता को सुचारू रखने के लिए घनशाम बने ट्रेफिक पुलिस |  अजमेर में रही होली की धूम |  किक बॉक्सिंग चैंपियन पुतिन के सपोर्टर, गवर्नर बनाए गए |  फेसबुक के कर्मचारी देख सकते थे 60 करोड़ यूजर्स के पासवर्ड, सर्वर पर प्लेन टेक्स्ट में स्टोर थे |  मोदी के पास सिर्फ मार्केटिंग, अगली बार नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री: गहलोत |  पोरबंदर से पैदल रामदेवरा जा रहे छह लोगों को ट्रॉले ने कुचला, चार की मौत, दो जख्मी |  होली के रंगों से रंगा राजस्थान, गली-मोहल्लों में खूब उड़े गुलाल |  भाजपा की पहली लिस्ट में राजस्थान के 16 उम्मीदवार, 14 नाम रिपीट, संतोष अहलावत का टिकट कटा | 

अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद (संशोधन) विधेयक 2017 लोक सभा में पेश

Post Views 3

March 15, 2017

केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री उमा भारती ने आज लोक सभा में अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद (संशोधन) विधेयक 2017 पेश किया। विधेयक को पेश करते हुएभारती ने कहा कि अंतर्राज्यीय नदी जल विवादों के निपटारे के लिए एक ‘क्रांतिकारी पहल’ है। भारती ने विधेयक की मुख्य विशेषताओं का जिक्र करते हुए कहा कि इस विधेयक में अंतर्राज्यीय जल विवाद निपटारों के लिए अलग अलग अधिक‍रणों की जगह एक स्‍थायी अधिकरण (विभिन्न पीठों के साथ) की व्यवस्था करने का प्रस्ताव है जिसमें एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष और अधिकतम छह सदस्य तक होंगे। अध्यक्ष के कार्याकाल की अवधि पांच वर्ष अथवा उनके 70 वर्ष की आयु होने तक होगी। अधिकरण के उपाध्यक्ष के कार्याकाल की अवधि तथा अन्य सदस्यों का कार्यकाल जल विवादों के निर्णय के साथ सह-समाप्ति आधार पर होगा। यह भी प्रस्ताव है कि अधिकरण को तकनीकी सहायता देने के लिए आकलनकर्ताओं की नियुक्ति की जाएगी जाएगा, जो केन्द्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा में सेवा में सेवारत विशेषज्ञों में से होंगे और जिनका पद मुख्य इंजीनियर से कम नहीं होगा। विधेयक के प्रावधानों की जानकारी देते हुए भारती ने कहा कि जल विवादों के निर्णय के लिए कुल समयवधि अधिकतम साढ़े चार वर्ष तय की गई है। अधिकरण की पीठ का निर्णय अंतिम होगा और संबंधित राज्यों पर बाध्यकारी होगा। इसके निर्णयों को सरकारी राजपत्र में प्रकाशित करने की आवश्यकता नहीं होगी। भारती ने कहा कि अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद (संशोधन) विधेयक 2017 में अंतर्राज्यीय नदी जल विवादों के न्याय निर्णयन की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने और वर्तमान कानूनी तथा संस्थागत संरचना को सुदृढ़ करने का विचार है। विधेयक में विवाद को अधिकरण को भेजने से पहले एक विवाद समाधान समिति के माध्यम से बातचीत द्वारा जल विवाद को सौहार्दपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए एक तंत्र बनाने का भी प्रस्ताव है। यह तंत्र केन्द्र सरकार द्वारा स्थापित किया जाएगा जिसमें संबंधित क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल होंगे। उल्‍लेखनीय है कि राज्यों द्वारा जल की मांग बढ़ने के कारण अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद बढ़ रहे हैं। हालांकि, अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद अधिनियम, 1956 (1956 का 33) में ऐसे विवादों के समाधान के कानूनी ढांचे की व्यवस्था है, फिर भी इसमें कई कमियां हैं। उक्त अधिनियम के अंतर्गत प्रत्येक अंतर्राज्यीय नदी जल विवाद के लिए एक अलग अधिकरण स्थापित किया जाता है। आठ अधिकरणों में से केवल तीन ने अपने निर्णय दिए हैं जो राज्यों ने मंजूर किए हैं। हालांकि, कावेरी और रावी-व्यास जल विवाद अधिकरण क्रमशः 26 और 30 वर्षों से बने हुए हैं फिर भी ये अभी तक कोई सफल निर्णय देने में सक्षम नहीं हो पाए हैं। इसके अतिरिक्त मौजूदा अधिनियम में किसी अधिकरण द्वारा निर्णय देने की समय-सीमा तय करने अथवा अधिकरण के अध्यक्ष या सदस्य की अधिकतम आयु तय करने का कोई प्रावधान नहीं है। अधिकरण के अध्यक्ष के कार्यालय में कोई पद रिक्त होने या सदस्य का पद रिक्त होने की स्थिति में कार्य को जारी रखने की कोई व्यवस्था नहीं है और न ही अधिकरण की रिपोर्ट प्रकाशित करने की कोई निश्चित समय-सीमा है। इन सभी कमियों के चलते जल विवादों के विषय में निर्णय देने में विलंब होता रहा है।

Latest News

March 22, 2019

पुलिस लाइन परिसर में पुलिस कर्मियों ने खेली होली

Read More

March 22, 2019

लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रतियक्ष भागीरथ चौधरी पहुचे अजमेर

Read More

March 22, 2019

पेशे से ऑटो चालक लेकीन ट्राफिक व्यवस्ता को सुचारू रखने के लिए घनशाम बने ट्रेफिक पुलिस

Read More

March 22, 2019

अजमेर में रही होली की धूम

Read More

March 22, 2019

किक बॉक्सिंग चैंपियन पुतिन के सपोर्टर, गवर्नर बनाए गए

Read More

March 22, 2019

फेसबुक के कर्मचारी देख सकते थे 60 करोड़ यूजर्स के पासवर्ड, सर्वर पर प्लेन टेक्स्ट में स्टोर थे

Read More

March 22, 2019

मोदी के पास सिर्फ मार्केटिंग, अगली बार नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री: गहलोत

Read More

March 22, 2019

पोरबंदर से पैदल रामदेवरा जा रहे छह लोगों को ट्रॉले ने कुचला, चार की मौत, दो जख्मी

Read More

March 22, 2019

होली के रंगों से रंगा राजस्थान, गली-मोहल्लों में खूब उड़े गुलाल

Read More

March 22, 2019

भाजपा की पहली लिस्ट में राजस्थान के 16 उम्मीदवार, 14 नाम रिपीट, संतोष अहलावत का टिकट कटा

Read More