RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
Breaking News
ट्रेक्टर चालक की पत्थर से ताबड़तोड़ से वारकर हत्या दिल्ली रोड पर मिली लाश |  गजेंद्र सिंह का नाम तय लेकिन सत्ता में राजपूतों की ज्यादा भागीदारी से फंसा पेंच |  आज दो बेटियों की शादी थी पिता ने तड़के 4 बजे पत्नी भाई और उसकी पत्नी को मार डाला |  400 रुपए रोज कमाने वाले ने ‌‌‌‌8 लाख के लौटाए जेवरात, रात को आनी थी बारात |  लंदन के बाद जर्मनी जाएंगे मोदी, एंजेला मर्केल से होगी मुलाकात |  कभी महाभियोग का विरोध करने वाले सिब्बल आज कर रहे हैं लीड |  CM के बचाव में राज्यपाल बोले- प्राचीन काल के लोग थे सुपरह्यूमन |  मोसम ने बदला रुख |  आनासागर में डूब कर फिर एक और मौत |  एम् डी एस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर विजय श्रीमाली ने  किया  कुलपति का पदभार ग्रहन | 

कैसे रुके हाईवे पर मौत का तांडव

Post Views 13

इन दिनों जिस तरफ देखो सभी ओर से हाईवे पर दुर्घटनाओं की जैसे बाड़ सी आ गयी है |सारे सोशल मीडिया पर चाहे वह फेसबुक हो या वाट्स अप्प या रोज़ सुबह आने वाला अखबार , हर रोज़  औसतन दो या चार ख़बरें पढ़ने को मिल जाती है की भीषण सड़क दुर्घटना में लोगों की तत्काल मृत्यु हो गयी | अब यह घटनाएं चाहे कहीं की भी हो या चाहे कितने भी लोग काल का ग्रास बन गए हो इन सभी दुर्घटनाओं में एक चीज़ सामान है और वह है भारी वाहन जैसे ट्रक ,ट्रोला ,डम्पर इत्यादि |

अक्सर इन दुर्घटनाओं में टक्कर किसी भारी वाहनऔर किसी छोटी गाडी में होती है |स्वाभाविक बात है की जब ऐसी टक्कर होती है तो जान से हाथ छोटी गाडी वाले को ही धोना पड़ता है |बड़ी और भरी हुई गाड़ियों के बहुत कम नुक्सान होता है जिसमें जान का नुक्सान तो मात्र  पांच प्रतिशत ही होता है

आप भी यह सोच रहे होंगे  की मैं आज यह क्या बात लेकर बैठ गया तो मैं यह बता दूँ की जानकारी के अनुसार पिछले 7 दिनों में तकरीबन इसी तरह से तेरह अकाल मौतें तो केवल उँगलियों पर ही गिनी जा सकती है यानि की औसतन रोज़ की दो मौतें | 

इसे यूँ तो कहने वाला बस  "अनहोनी को कौन टाल सकता है भाई "  कह कर भी इति श्री कर सकता है परन्तु , अनहोनी केवल इतनी सी नहीं है की यह सब न जाने कितने सालों से यूँ ही चल रहा है बिना रुके | अनहोनी तो यह भी है की हमारे देश की लचर कानून व्यवस्था में हाईवे पर दौड़ रहे वाहनों में की जाने वाली लापरवाही के विरुद्ध कड़े नीयम कायदे नहीं बने हुए है ,या फिर बने हुए भी है तो इनकी पालना सही रूप से करवाने में हमारा प्रशासनिक ढांचा पूरी तरह से फेल हो रहा है | कारण साफ़ है की जो प्रशासनिक व्यवस्था शहर के बीच बैठ कर बड़ी शिद्दत से वाहन चालकों को नीयम कायद का पाठ पढ़ाती है वही प्रशासनिक व्यवस्था हाईवे पर आकर जंगलराज का शिकार हो जाती है | स्वाभाविक बात है साहब शहर की हद ख़तम हो जाने पर जंगल शुरू हो जाता है और उस जंगल में सभी नीयम कायदे ताक पर रख जिसे जो समझ आता है वह वही करता है |

आइये आप को इस जंगल राज का कड़क उदाहरण बताते हैं | कुछ रोज़ पहले हाईवे पर ओवरलोडिंग माफिया ने अपने कर्त्तव्य का पालन कर रहे आरटीओ अधिकारी की पिटाई करने की कोशिश की ,यह बात साफ़ दर्शाती है की पैसे और ताक़त के नशे में चूर यह ओवरलोडिंग और अवैध खनन माफिया सिस्टम और व्यवस्था का कितना खुल कर मखौल उड़ा रहा है |जानकारी के अनुसार आरटीओ के पास इस तरह की स्थिति से निपटने हेतु कोई भी माकूल इंतज़ाम मौके पर नहीं होता है जो की अपने आप में विभाग की बहुत बड़ी कमी दिखाई देता है |

यह माफिया भी दरअसल इसी प्रशासनिक तंत्र की पदाईश है जिसके चलते कुछ प्रशासनिक अधिकारी इन माफियाओं से मिलकर धन के लालच में अवैध खनन और ओवरलोडिंग को बढावा देते हैं और जब यह माफिया इस तरह से कमाए हुए धन से भरपूर हो जाते हैं तो अपना मौत का तांडव हाईवे पर शुरू कर देते हैं |सैकड़ों ओवरलोडेड गाड़ियाँ वाहन कर की चोरी कर सरकार को चुना लगाती है और अवैध खनन में लिप्त हो कर खनन विभाग भी इन माफियाओं की ताक़त बढ़ता है |व्यवस्था में समाये भ्रष्टाचार की वजह से इस समस्या से निजात पाना लगभग असंभव सा नज़र आने लगा है |

यदि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय व्यवस्थित रूप से इस समस्या पर गंभीर प्रसंज्ञान ले तो इस समस्या का हल निकाला जा सकता है और सैकड़ो जानें बचाई जा सकती हैं | पाया गया है की अधिकाँश भारी वाहन चलाने वाले वाहन चालको के पास या तो ड्राइविंग लाईसेंस नहीं होता या फिर गाड़ी मदिरा का सेवन कर के चलाते हैं और जब कोई दुर्घटना हो जाती है तो अक्सर गाडी चालक वहीँ गाडी छोड़ कर फरार हो जाता है |जब पुलिस मौके पर पहुँच कर अपनी कार्यवाही करती है तो गाडी मालिक पहुँच कर एक लाईसेंस धारी वाहन चालक को पेश कर देता है और न्यायालय से गाडी छोड़ दी जाती है |

यदि सरकार हर टोल नाके पर मुस्तैदी से सिस्टम में एंट्री कर वाहन चालक से लाईसेंस मांग कर चालक से मिलान करे , गाडी में कितना वज़न है इस की ऑनलाइन सिस्टम में एंट्री हो ,  चालक कि एल्कोहोल टेस्टिंग मशीन से जांच कर के आगे जाने दे ,और इन सब तथ्यों का सत्यापन टोल दर टोल होता रहे तो यह सबकुछ ऑनलाइन आ जायेगा |

फिर  शायद नशे में वाहन चलाने की प्रवृति, ओवरलोडिंग से कर चोरी और भारी दुर्घटनाओं के मामले में वाहन चालक का बच कर निकल जाना आसान नहीं होगा | जिससे सैकड़ों जानें बचाई जा सकती हैं |

सब कुछ संभव है बस चाहिए थोड़ी सी इच्छाशक्ति और यह सोच की चाहे कितना भी अँधेरा व्याप्त हो परन्तु इच्छाशक्ति और सच्चाई का एक दिया ही बहुत होता है घने अन्धकार को रौशन करने के लिए |अंत में दो पंक्तियों पर ही बात ख़त्म करना चाहूँगा –

माना अन्धेरा बहुत घना है
पर दिया जलाना कहाँ मना है ...

जय श्री कृष्णा

Latest News

April 21, 2018

ट्रेक्टर चालक की पत्थर से ताबड़तोड़ से वारकर हत्या दिल्ली रोड पर मिली लाश

Read More

April 21, 2018

गजेंद्र सिंह का नाम तय लेकिन सत्ता में राजपूतों की ज्यादा भागीदारी से फंसा पेंच

Read More

April 21, 2018

आज दो बेटियों की शादी थी पिता ने तड़के 4 बजे पत्नी भाई और उसकी पत्नी को मार डाला

Read More

April 21, 2018

400 रुपए रोज कमाने वाले ने ‌‌‌‌8 लाख के लौटाए जेवरात, रात को आनी थी बारात

Read More

April 21, 2018

लंदन के बाद जर्मनी जाएंगे मोदी, एंजेला मर्केल से होगी मुलाकात

Read More

April 21, 2018

कभी महाभियोग का विरोध करने वाले सिब्बल आज कर रहे हैं लीड

Read More

April 21, 2018

CM के बचाव में राज्यपाल बोले- प्राचीन काल के लोग थे सुपरह्यूमन

Read More

April 20, 2018

मोसम ने बदला रुख

Read More

April 20, 2018

आनासागर में डूब कर फिर एक और मौत

Read More

April 20, 2018

एम् डी एस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर विजय श्रीमाली ने  किया  कुलपति का पदभार ग्रहन

Read More