RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 50107144

ज़मानत पर छूटी अंतरात्मा से सवाल? - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Post Views 7

July 11, 2019

ज़मानत पर छूटी अंतरात्मा से सवाल

           *सुरेन्द्र चतुर्वेदी*

वो ताक़तवर है।ये उसके वकील ने कहा।वो महान नेता है ये अदालत को बताया गया।दलील दी गई कि यदि उसके ज़मानत नहीं हुई तो उसका राजनीतिक भविष्य चौपट हो जाएगा।यहां तक कह दिया गया कि वह मासूम है।बेगुनाह है।निर्दोष है।अबोध है।महान न्यायाधीश ने ये सब  मान  लिया।

उसकी ज़मानत हो गई।

ज़मानत  ही ऐसी जो ऐसे किसी मामले में किसी की नहीं हो सकती थी।उसने कमाल कर दिया।उसके वकीलों ने उसे न्याय दिलाने के लिए चमत्कारिक प्रबंधन कर दिखाया।अदालत के दिनों तक फ़ैसला दबाए बैठे रही।ये ऐतिहासिक फ़ैसला जो था।सोच समझ कर किया जाना था।बेहद सोच समझ कर किया गया।

उसने वक़ील ही इतने शानदार किए थे।इनमे से एक तो न्यायाधीश राह चुकने के बाद फिर वक़ील हो गया।पूर्व न्यायाधीश का प्रबंधन कमल का था।उसने अदालत को समझ दिया कि उसे क्या करना है।सीनियर न्यायाधीश ।जूनियर न्यायाधीश।

वो बहुत प्रभाव शाली है।ये उसने और उसके वकीलों ने सिद्ध कर दिया।

         जिस मासूम बिटिया के साथ जो कुछ उसने किया वो अबोध नहीं थी शायद।अबोध तो वो ख़ुद था।मासूम और नाबालिग भी।उसने जो किया वो बहुत पूण्य कार्य था।महान कार्य।राजनीति के धुरंधर ने अदालत की मदद और वकीलों के प्रबंधन से ख़ुद को ज़मानत पर छुड़वा लिया।शायद उसे ख़ुद पर बड़ा गर्व हो।उसे लगा हो जैसे बच्ची को उसने इस बात की सज़ा दी दी हो कि उसने 164 में उसके ख़िलाफ़ बयान देकर क्या टेड़ा-मेडा कर लिया।

उसने समाज को ये भी जता दिया कि आशा राम में वो कुशल सोच नहीं था वरना वो 5 साल तक सलाक़ों के पीछे खांस न रह होता।

        बाबा राम रहीम को भी दूसरी तरह से उसने संदेश दे दिया कि गुनाह कर के बचना हो तो उस से संपर्क करो।अब जब भी कोई किसी मासूम की इज़्ज़त पर हाथ डालेगा बाद में इनसे ही संपर्क करेगा।ये महान थे अब और महान हो गए हैं।इनकी शर्मनाक महानता को शहर वासियों के नमन।उन वक़ीलों को नमन।उस न्यायाधीश को नमन।उस क़ानून को नमन जो आंखों पर पट्टी बांध कर तराज़ू हाथ मे लेता है।

अब सवाल आता है *अंतरात्मा* का।उसकी *अंतरात्मा*  वैसे तो उस वक़्त ही मर गई थी जब उसने मासूम बिटिया को बेटी तो कहा माना नहीं।उसके साथ अश्लीलता बरतते वक्त उसने अपनी अंतरात्मा को सामने नहीं रखा।

ऐसे लोग जिनकी अंतरात्मा मर जाती है वो राजनीति में भले ही सफल हो जाएं।क़ानून से भले ही मदद ले लें मगर समाज उनकी असली सूरत पहचानता है।आसा राम हो,बाबा राम रहीम हों या और भी ऐसे हरामी लोग ।चाहे ये हरामी नेता।ये सब जानते हैं कि उनकी अंतरात्मा कितनी घिनौनी है।कितनी गलीच है। इतनी गलीच और गिरी हुई के ये अपनी बेटियों के सामने नज़र नहीं मिला सकते।

अब ज़मानत मिल गयी है तो ये सोचते हैं कि ये सज़ा से भी बच जाएंगे।फिर से  चालाक वक़ील इसको कानून से बरी करवा देंगे मगर सच ये है कि कानून से इनको ज़मानत मिल गई हो *अंतरात्मा*से कैसे मिलेगी।अंतरात्मा से ये बरी कैसे होंगे।कैसे होंगे समाज की निग़ाहों से बरी।

दोस्तों! 

क्या आप सोचते हैं ऐसे लोग आपकी बेटी की birth day पर बुलाये जा सकते हैं❓ऐसे लोगों को शिक्षण संस्थाओं में सम्मान मिल सकता है❓ऐसे लोग किसी चुनाव में आपसे वोट मांगने घर आ सकते हैं❓ऐसे लॉगिन के साथ आप अपनी बेटियों को सुरक्षित समझ सकते है❓अरे अब तो इनके परिवार की बेटियां भी इनके साथ अकेले होने में डरेंगी।यदि ऐसा है तो फिर इनकी कैसी ज़मानत❓कैसा प्रबंधन❓कैसा महान होना❓

         लानत है ऐसी झूंठी ज़मानत पर।थू।

Latest News

July 21, 2019

आदर्श नगर थाना क्षेत्र में एक युवक का अपहरण

Read More

July 21, 2019

रेलवे हॉस्पिटल के सामने पेट्रोल पंप में घुसी कार

Read More

July 21, 2019

सीआरपीएफ के जवानों की साईकिल रैली

Read More

July 21, 2019

बातों में फंसा का ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

Read More

July 21, 2019

इनरव्हील क्लब की नए कार्य करने की घोषणा

Read More

July 21, 2019

कला अंकुर खोज 2019 का आगाज

Read More

July 21, 2019

तारागढ़ रोड पर चल रहे सट्टे पर रामगंज थाना पुलिस ने दी दबिश

Read More

July 21, 2019

परशुराम सर्किल पर ब्राह्मण समाज ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि

Read More

July 21, 2019

अजब ब्लॉग की गज़ब कहानी

Read More

July 21, 2019

जिसकी पूंछ उठाओ वही मादा - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Read More