RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 54968520
Breaking News
पता न था फिर करेगी कमाल लेडी सिंघम चिन्मयी गोपाल - सुरेन्द्र चतुर्वेदी |  55 साल की रेहाना अंसारी को तीन बार तलाक बोलकर पति ने खत्म किया निकाह |  हरीश जाटव की मौत मॉब लिंचिंग है या नहीं, भिवाड़ी एसपी जांच करेंगे : पायलट |  बहरोड़ में एसआईटी टीम ने छह घंटे की जांच, फाइलों को खंगाला और घटनास्थल देखा |  गुजरात की सरक्रीक सीमा पर पाक ने एसएसजी कमांडो तैनात किए, राजौरी में तोड़ा सीजफायर |  भाजपा अनुच्छेद-370 पर देशभर में अभियान चलाएगी, 2000 हस्तियाें से मुलाकात करेगी |  कांग्रेस ने कहा- भाजपा ने सीबीआई और ईडी को बदले की कार्रवाई करने वाले विभाग में बदला |  बड़ौदा राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक ऑफिसर एवं एम्पलाइज एसोसिएशन द्वारा प्रदर्शन |  भारतीय जनता पार्टी ने परिसीमन का किया विरोध |  छात्र संघ चुनाव के लिए कल भरे जाएंगे नामांकन | 

इंदिरा की हत्या के बाद राज्य में कांग्रेस सभी 25 लोकसभा सीटें जीती, अगले चुनाव में सब हारीं

Post Views 13

March 11, 2019

जयपुर. दिग्गज कांग्रेस नेता और दो बार राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे शिवचरण माथुर के नाम अपने कार्यकाल में लोकसभा की सभी 25 सीटें जीतने और सभी सीटें हारने का रिकॉर्ड है। भीलवाड़ा नगरपालिका अध्यक्ष पद से अपना राजनीतिक जीवन शुरू करने वाले माथुर भीलवाड़ा के जिला प्रमुख, सांसद और राजस्थान सरकार में कई बार मंत्री रहे। हालांकि, उनका जन्म मध्यप्रदेश के गुना जिले के नाडीकानूगो गांव में हुआ था। लेकिन उनकी शिक्षा और कार्यक्षेत्र राजस्थान ही रहा। 


बोफोर्स घोटाले के बाद वीपी सिंह ने भाजपा के साथ मिलकर सभी सीटें छीनीं :

माथुर 14 जुलाई, 1981 को पहली बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बने और 23 फरवरी, 1985 तक इस पद पर रहे। इस कार्यकाल के दौरान ही 1984 में लोकसभा के चुनाव हुए। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या से उपजी सहानुभूति लहर ने राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को देश भर में ऐतिहासिक जीत दिलाई। राजस्थान में कांग्रेस ने क्लीन स्वीप करते हुए सभी 25 लोकसभा सीटें जीतीं। तब राजस्थान में ऐसा पहली बार हुआ, जब सभी 25 सीटें एक पार्टी के खाते में गई हों।

मुख्यमंत्री पद से हरिदेव जोशी की विदाई के बाद माथुर 20 जनवरी, 1988 को दूसरी बार मुख्यमंत्री बने। उनके इस कार्यकाल के दौरान नवंबर 1989 के अंत में लोकसभा चुनाव हुए। बोफोर्स सौदे में घोटाले के विरोध में वीपी सिंह राजीव सरकार से बाहर आ गए थे। चुनाव में उनके नेतृत्व में बने मोर्चे ने भाजपा के साथ मिलकर कांग्रेस को चुनौती दे रखी थी।

इस चुनाव में पिछले चुनावों के बिल्कुल उलट कांग्रेस सभी 25 सीटों पर चुनाव हार गई। भाजपा 13 और जनता दल 11 सीटों पर जीती जबकि बीकानेर सीट पर माकपा के श्योपत सिंह विजयी रहे। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की इस दुर्दशा पर माथुर ने 4 दिसंबर, 1989 को अपना इस्तीफा दे दिया।

Latest News

August 22, 2019

पता न था फिर करेगी कमाल लेडी सिंघम चिन्मयी गोपाल - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Read More

August 22, 2019

55 साल की रेहाना अंसारी को तीन बार तलाक बोलकर पति ने खत्म किया निकाह

Read More

August 22, 2019

हरीश जाटव की मौत मॉब लिंचिंग है या नहीं, भिवाड़ी एसपी जांच करेंगे : पायलट

Read More

August 22, 2019

बहरोड़ में एसआईटी टीम ने छह घंटे की जांच, फाइलों को खंगाला और घटनास्थल देखा

Read More

August 22, 2019

गुजरात की सरक्रीक सीमा पर पाक ने एसएसजी कमांडो तैनात किए, राजौरी में तोड़ा सीजफायर

Read More

August 22, 2019

भाजपा अनुच्छेद-370 पर देशभर में अभियान चलाएगी, 2000 हस्तियाें से मुलाकात करेगी

Read More

August 22, 2019

कांग्रेस ने कहा- भाजपा ने सीबीआई और ईडी को बदले की कार्रवाई करने वाले विभाग में बदला

Read More

August 21, 2019

बड़ौदा राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक ऑफिसर एवं एम्पलाइज एसोसिएशन द्वारा प्रदर्शन

Read More

August 21, 2019

भारतीय जनता पार्टी ने परिसीमन का किया विरोध

Read More

August 21, 2019

छात्र संघ चुनाव के लिए कल भरे जाएंगे नामांकन

Read More