RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

Loksabha Election 2019

10th Feb 19

ई - पेपर

Breaking News
डिंपल ने मायावती के पैर छुए, बसपा प्रमुख ने कहा- यह मेरा परिवार है |  चेन्नई-मुंबई का मैच आज, होमग्राउंड पर इस सीजन में एक भी मैच नहीं हारे सुपरकिंग्स |  पर्चा भरने से पहले मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा- काशी जीतने का काम कल ही पूरा हो गया |  कोटा और झालावाड़-बारां में भाजपा मजबूत, मोदी और राष्ट्रवाद हावी |  नक्सलवाद फैलाने टेक्निकल टीम ने तैयार की शाॅर्ट फिल्में, ब्रेन वॉश करने बच्चों को दिखा रहे |  अजमेर और भीलवाड़ा में भाजपा मजबूत, टोंक-स. माधोपुर में कांग्रेस हावी |  हाईकोर्ट ने पूछा, शहर के ट्रैफिक हालात सुधारने के लिए क्या कर रही है सरकार? |  सरकार ने मृतकों की संख्या घटाकर 253 की; पुलिस ने 4 संदिग्धों के फोटो जारी किए |  पुतिन से मुलाकात के बाद किम ने कहा- ट्रम्प ने भरोसा नहीं जताया, उनसे रिश्ते बिगड़ सकते हैं |  पूरी निष्ठा व ईमानदारी से जनता की सेवा करूंगा-झुनझुनवाला | 

इंदिरा की हत्या के बाद राज्य में कांग्रेस सभी 25 लोकसभा सीटें जीती, अगले चुनाव में सब हारीं

Post Views 10

March 11, 2019

जयपुर. दिग्गज कांग्रेस नेता और दो बार राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे शिवचरण माथुर के नाम अपने कार्यकाल में लोकसभा की सभी 25 सीटें जीतने और सभी सीटें हारने का रिकॉर्ड है। भीलवाड़ा नगरपालिका अध्यक्ष पद से अपना राजनीतिक जीवन शुरू करने वाले माथुर भीलवाड़ा के जिला प्रमुख, सांसद और राजस्थान सरकार में कई बार मंत्री रहे। हालांकि, उनका जन्म मध्यप्रदेश के गुना जिले के नाडीकानूगो गांव में हुआ था। लेकिन उनकी शिक्षा और कार्यक्षेत्र राजस्थान ही रहा। 


बोफोर्स घोटाले के बाद वीपी सिंह ने भाजपा के साथ मिलकर सभी सीटें छीनीं :

माथुर 14 जुलाई, 1981 को पहली बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बने और 23 फरवरी, 1985 तक इस पद पर रहे। इस कार्यकाल के दौरान ही 1984 में लोकसभा के चुनाव हुए। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या से उपजी सहानुभूति लहर ने राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को देश भर में ऐतिहासिक जीत दिलाई। राजस्थान में कांग्रेस ने क्लीन स्वीप करते हुए सभी 25 लोकसभा सीटें जीतीं। तब राजस्थान में ऐसा पहली बार हुआ, जब सभी 25 सीटें एक पार्टी के खाते में गई हों।

मुख्यमंत्री पद से हरिदेव जोशी की विदाई के बाद माथुर 20 जनवरी, 1988 को दूसरी बार मुख्यमंत्री बने। उनके इस कार्यकाल के दौरान नवंबर 1989 के अंत में लोकसभा चुनाव हुए। बोफोर्स सौदे में घोटाले के विरोध में वीपी सिंह राजीव सरकार से बाहर आ गए थे। चुनाव में उनके नेतृत्व में बने मोर्चे ने भाजपा के साथ मिलकर कांग्रेस को चुनौती दे रखी थी।

इस चुनाव में पिछले चुनावों के बिल्कुल उलट कांग्रेस सभी 25 सीटों पर चुनाव हार गई। भाजपा 13 और जनता दल 11 सीटों पर जीती जबकि बीकानेर सीट पर माकपा के श्योपत सिंह विजयी रहे। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की इस दुर्दशा पर माथुर ने 4 दिसंबर, 1989 को अपना इस्तीफा दे दिया।

Latest News

April 26, 2019

डिंपल ने मायावती के पैर छुए, बसपा प्रमुख ने कहा- यह मेरा परिवार है

Read More

April 26, 2019

चेन्नई-मुंबई का मैच आज, होमग्राउंड पर इस सीजन में एक भी मैच नहीं हारे सुपरकिंग्स

Read More

April 26, 2019

पर्चा भरने से पहले मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा- काशी जीतने का काम कल ही पूरा हो गया

Read More

April 26, 2019

कोटा और झालावाड़-बारां में भाजपा मजबूत, मोदी और राष्ट्रवाद हावी

Read More

April 26, 2019

नक्सलवाद फैलाने टेक्निकल टीम ने तैयार की शाॅर्ट फिल्में, ब्रेन वॉश करने बच्चों को दिखा रहे

Read More

April 26, 2019

अजमेर और भीलवाड़ा में भाजपा मजबूत, टोंक-स. माधोपुर में कांग्रेस हावी

Read More

April 26, 2019

हाईकोर्ट ने पूछा, शहर के ट्रैफिक हालात सुधारने के लिए क्या कर रही है सरकार?

Read More

April 26, 2019

सरकार ने मृतकों की संख्या घटाकर 253 की; पुलिस ने 4 संदिग्धों के फोटो जारी किए

Read More

April 26, 2019

पुतिन से मुलाकात के बाद किम ने कहा- ट्रम्प ने भरोसा नहीं जताया, उनसे रिश्ते बिगड़ सकते हैं

Read More

April 25, 2019

पूरी निष्ठा व ईमानदारी से जनता की सेवा करूंगा-झुनझुनवाला

Read More