समझौते के बावजूद सहयोग नहीं कर रहे पड़ोसी देश: राजनाथ 
राजनाथ का कहना था कि अगर हम इन लोगों को शरण नहीं देंगे तो ये लोग कहां जाएंगे। भारत ने गैर मुस्लिमों को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने के लिए पाकिस्तान व बांग्लादेश से समझौता किया है पर इसका पालन नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि संविधान के प्रावधानों के अनुरूप ही विधेयक को तैयार किया गया है। सरकार इसे बगैर किसी भेदभाव के लागू करेगी। असम के अनुसूचित जनजाति के लोगों के हितों की रक्षा के लिए सरकार कदम उठाएगी।


नागरिकता मसले पर राज्यों को पूरी मदद देगा केंद्र
विधेयक का कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, माकपा के साथ कुछ अन्य पार्टियां लगातार विरोध कर रही हैं। असम के ज्यादातर लोग इसके विरोध में हैं। राजनाथ ने इस पर कहा कि विधेयक पूरे देश में प्रभावी रहेगा और गैर मुस्लिमों को नागिरकता देने के मसले पर केंद्र राज्यों को हर संभव मदद करेगा। केंद्र ने असम की ताईहोम, कोच राजबोंगसी, चुटिया, टी ट्राइब्स, मोरन और माटक समुदाय को एसटी स्टेटस देने का निर्णय लिया है।


बोडो कछारी और कार्बिस के लिए अलग से बिल:राजनाथ
राजनाथ सिंह ने कहा कि असम के पहाड़ी इलाकों में रहने वाले बोडो कछारी और मैदानों में रह रहे कार्बिस के लिए अलग से बिल लाया जाएगा। इसके जरिए उन्हें अनुसूचित जाति का दर्जा दिया जाएगा। आटोनॅामस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल को मजबूत बनाने के लिए संविधान की छठी अनुसूची में सरकार संशोधन करने जा रही है।


जेपीसी की सिफारिशों पर बिल में किए बदलाव
बिल को पहली बार 2016 में संसद में पेश किया गया था। बाद में इसे संयुक्त संसदीय समित के पास भेजा गया। समिति की सिफारिशों पर इसमें सुधार कर मंगलवार को लोकसभा में पेश किया गया। कांग्रेस ने विरोध करते हुए कहा कि बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए। सरकार ने मांग नहीं मानी तो पार्टी ने सदन से वाक आउट कर दिया। तृणमूल के सौगत रॉय ने भी इसका विरोध किया। राजद, एआइएमआइएम, बीजद, शिवसेना, माकपा, एआइडीयूएफ और आइयूएमएल ने भी विधेयक का विरोध किया। 

" />
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 48718484
Breaking News
केन्द्रीय सहायक सचिव ने गा्रमीणों को दिलाई जल शक्ति अभियान की प्रतिज्ञा |  स्वाधीनता दिवस समारोह ःः पुरूस्कार के लिए आवेदन 5 अगस्त तक |  सडकों की़ कटिंग की मरम्मत एक सप्ताह में पूर्ण करें - जिला कलक्टर |  केन्द्रीय सहायक सचिव ने किया जल शक्ति अभियान कार्यों का अवलोकन |  स्वाधीनता दिवस समारोह 2019 मुख्य समारोह पटेल मैदान में आयोजित होगा |  HORIZON HIND NEWS - BULLETIN 15 JULY 2019 |  होटल में टेलीफोन के तार से गला घोटकर की महिला की हत्या |  छतरी योजना स्तिथ मकान से चोरो ने उड़ाया 6 लाख का माल |  सुने मकान के ताले तोड़ चोरो ने उड़ाया 5 लाख का माल |  फॉयसागर रोड की 27 कॉलोनियों को निगम के दायरे में लेने के लिए लोगो ने किया प्रदर्शन | 

नागरिकता विधेयक पारित हुआ, तीन देशों के गैर मुस्लिमों को मिलेगा फायदा

Post Views 2

January 9, 2019

नई दिल्ली. सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल 2016 मंगलवार को लोकसभा से पास हो गया। विधेयक से 1955 के कानून को संशोधित किया गया है। इससे अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के गैर मुस्लिमों (हिंदु, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी व इसाई) समुदाय के लोगों को नागरिकता देने का रास्ता तैयार होगा। अभी के कानून के अनुसार इन लोगों को 12 साल बाद भारत की नागरिकता मिल सकती है, लेकिन बिल पास हो जाने के बाद यह समयावधि 6 साल हो जाएगी। वैध दस्तावेज न होने पर भी 3 देशों के गैर मुस्लिमों को इसका लाभ मिलेगा। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि यह विधेयक केवल असम तक ही सीमित नहीं रहेगा बल्कि यह पूरे देश में प्रभावी रहेगा। पश्चिमी सीमा से गुजरात, राजस्थान, दिल्ली, मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों में आने वाले पीड़ित प्रवासियों को इससे राहत मिलेगी।




समझौते के बावजूद सहयोग नहीं कर रहे पड़ोसी देश: राजनाथ 
राजनाथ का कहना था कि अगर हम इन लोगों को शरण नहीं देंगे तो ये लोग कहां जाएंगे। भारत ने गैर मुस्लिमों को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने के लिए पाकिस्तान व बांग्लादेश से समझौता किया है पर इसका पालन नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि संविधान के प्रावधानों के अनुरूप ही विधेयक को तैयार किया गया है। सरकार इसे बगैर किसी भेदभाव के लागू करेगी। असम के अनुसूचित जनजाति के लोगों के हितों की रक्षा के लिए सरकार कदम उठाएगी।


नागरिकता मसले पर राज्यों को पूरी मदद देगा केंद्र
विधेयक का कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, माकपा के साथ कुछ अन्य पार्टियां लगातार विरोध कर रही हैं। असम के ज्यादातर लोग इसके विरोध में हैं। राजनाथ ने इस पर कहा कि विधेयक पूरे देश में प्रभावी रहेगा और गैर मुस्लिमों को नागिरकता देने के मसले पर केंद्र राज्यों को हर संभव मदद करेगा। केंद्र ने असम की ताईहोम, कोच राजबोंगसी, चुटिया, टी ट्राइब्स, मोरन और माटक समुदाय को एसटी स्टेटस देने का निर्णय लिया है।


बोडो कछारी और कार्बिस के लिए अलग से बिल:राजनाथ
राजनाथ सिंह ने कहा कि असम के पहाड़ी इलाकों में रहने वाले बोडो कछारी और मैदानों में रह रहे कार्बिस के लिए अलग से बिल लाया जाएगा। इसके जरिए उन्हें अनुसूचित जाति का दर्जा दिया जाएगा। आटोनॅामस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल को मजबूत बनाने के लिए संविधान की छठी अनुसूची में सरकार संशोधन करने जा रही है।


जेपीसी की सिफारिशों पर बिल में किए बदलाव
बिल को पहली बार 2016 में संसद में पेश किया गया था। बाद में इसे संयुक्त संसदीय समित के पास भेजा गया। समिति की सिफारिशों पर इसमें सुधार कर मंगलवार को लोकसभा में पेश किया गया। कांग्रेस ने विरोध करते हुए कहा कि बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए। सरकार ने मांग नहीं मानी तो पार्टी ने सदन से वाक आउट कर दिया। तृणमूल के सौगत रॉय ने भी इसका विरोध किया। राजद, एआइएमआइएम, बीजद, शिवसेना, माकपा, एआइडीयूएफ और आइयूएमएल ने भी विधेयक का विरोध किया। 

Latest News

July 15, 2019

केन्द्रीय सहायक सचिव ने गा्रमीणों को दिलाई जल शक्ति अभियान की प्रतिज्ञा

Read More

July 15, 2019

स्वाधीनता दिवस समारोह ःः पुरूस्कार के लिए आवेदन 5 अगस्त तक

Read More

July 15, 2019

सडकों की़ कटिंग की मरम्मत एक सप्ताह में पूर्ण करें - जिला कलक्टर

Read More

July 15, 2019

केन्द्रीय सहायक सचिव ने किया जल शक्ति अभियान कार्यों का अवलोकन

Read More

July 15, 2019

स्वाधीनता दिवस समारोह 2019 मुख्य समारोह पटेल मैदान में आयोजित होगा

Read More

July 15, 2019

HORIZON HIND NEWS - BULLETIN 15 JULY 2019

Read More

July 15, 2019

होटल में टेलीफोन के तार से गला घोटकर की महिला की हत्या

Read More

July 15, 2019

छतरी योजना स्तिथ मकान से चोरो ने उड़ाया 6 लाख का माल

Read More

July 15, 2019

सुने मकान के ताले तोड़ चोरो ने उड़ाया 5 लाख का माल

Read More

July 15, 2019

फॉयसागर रोड की 27 कॉलोनियों को निगम के दायरे में लेने के लिए लोगो ने किया प्रदर्शन

Read More