RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Oct 18

ई - पेपर

Breaking News
राजस्थान में दो पायलटों के प्लेन में सवार कांग्रेस की सत्य कथा |  जे एल एन अस्पताल में रेजिडेंट डॉक्टर्स की और मरीज के परिजनों के बिच हुई हाथापाई |  निःशुल्क जांच शिविर में 67 जने लाभान्वित |  एम् पी एस स्कूल में आयोजित हुआ महेश्वरी समाज का सेमीनार |  जीत की भी समीक्षा करे कांग्रेस पार्टी - पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद |  चुनाव में लड़ने के लिए चेहरा का नहीं होता महत्व - पूर्व मंत्री चन्द्रराज सिंघवी |  दिल्ली वर्ल्ड पब्लिक स्कूल में वार्षिक उत्सव के धूम |  सीताराम पाराशर बने प्रेस क्लब के अध्यक्ष |  70 साल में 8 बार जेपीसी का गठन हुआ, पांच सरकारें अगला आम चुनाव हार गईं |  कांग्रेस का आरोप- कैग की रिपोर्ट पर सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया | 

क्या कांग्रेस भाजपा के खिलाफ विरोध की लहर का फायदा उठाने से चूक जाएगी ?

Post Views 5

November 28, 2018

वसुन्धरा सरकार और अजमेर के दोनों मंत्रियों के पंद्रह साल के शासन स्वरूप उपजी विरोध की लहर के चलते ऐसी धारणा बनी थी कि इस बार कांग्रेस की लहर है और उसकी सरकार बन सकती है।

वासुदेव देवनानी की तुनक मिजाजी , अनीता भदेल का अतिक्रमणों का समर्थन और गिनती बढ़ाने का विकास और वसुन्धरा जी से सरकारी कर्मचारियों की नाराजगी ने मेरे विचार से कांग्रेस की जीत के आसार पक्के कर दिए थे या पक्के कर दिए हैं क्योंकि भविष्य का अभी फैसला नहीं हुआ है।


बीजेपी की विरोधी लहर में जिस तरह कमर कसकर कांग्रेस और देवनानी के खिलाफ ब्राह्मणों को मैदान में उतरना था वे नहीं उतरे हैं।

मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अपरोक्ष रूप से सचिन पायलट और अशोक गहलोत में अन्दर ही अन्दर शीत युद्ध जारी है।दोनों यह अवश्य चाहते होंगे कि उनके समर्थक ज्यादा से ज्यादा संख्या में जीतें इसका यह अर्थ भी लगा सकते हैं कि सामने वाले का समर्थक हार जाए।

वास्तव में एक बात मैं आपका बता दूं कि राहुल गांधी में नेतृत्व क्षमता का वो हुनर कभी रहा ही नहीं कि वो हालातों पर काबू पा सके।

ये तो हुई कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की बात। अब आइए स्थानीय कांग्रेस की बात कर लें।

मैंने महसूस किया कि स्थानीय कांग्रेस में छोटे छोटे टापू बने हुए हैं।

इन छोटे छोटे टापुओं पर अलग अलग खेमों के अलग अलग झंडे लहरा रहे हैं।

ऐसी आशंका है सेनापति बनने की होड़ में सभी एक दूसरे को काट कर धराशाई हो जाएंगे और फिर ढूंढे से भी कोई सेनापति नजर नहीं आएगा और ताज एक बार फिर भाजपा की झोली में जा गिरेगा।

क्या भाजपा के खिलाफ विरोध की लहर का फायदा कांग्रेस उठाने से चूक जाएगी ?

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

Latest News

December 17, 2018

राजस्थान में दो पायलटों के प्लेन में सवार कांग्रेस की सत्य कथा

Read More

December 16, 2018

जे एल एन अस्पताल में रेजिडेंट डॉक्टर्स की और मरीज के परिजनों के बिच हुई हाथापाई

Read More

December 16, 2018

निःशुल्क जांच शिविर में 67 जने लाभान्वित

Read More

December 16, 2018

एम् पी एस स्कूल में आयोजित हुआ महेश्वरी समाज का सेमीनार

Read More

December 16, 2018

जीत की भी समीक्षा करे कांग्रेस पार्टी - पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद

Read More

December 16, 2018

चुनाव में लड़ने के लिए चेहरा का नहीं होता महत्व - पूर्व मंत्री चन्द्रराज सिंघवी

Read More

December 16, 2018

दिल्ली वर्ल्ड पब्लिक स्कूल में वार्षिक उत्सव के धूम

Read More

December 16, 2018

सीताराम पाराशर बने प्रेस क्लब के अध्यक्ष

Read More

December 16, 2018

70 साल में 8 बार जेपीसी का गठन हुआ, पांच सरकारें अगला आम चुनाव हार गईं

Read More

December 16, 2018

कांग्रेस का आरोप- कैग की रिपोर्ट पर सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया

Read More