RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Feb 19

ई - पेपर

Breaking News
दरगाह बाज़ार में कौमी एकता की मिसाल सर्व धर्म समाज के लोगों ने पेश की चादर के जुलूस में झूमे  |  युवा कांग्रेस ने फिर उठाया बिजली के पोल का मुद्दा |  मनीष मूलचंदानी के हत्यारे का पता न लगने पर आज सिन्धी समाज के लोगो ने कलेक्टर को दिया ज्ञापन |  जैस्वाल जैन की महिलाओ ने आयोजित किया  होली मिलन समारोह |  मुम्बई से 15 सदस्यो के दल ने दरगाह में चड़ाया चांदी का ताज |  इनडोर स्टेडियम में गोवा के मुख्यमंत्री स्वर्गीय मनोहर पर्रिकर को दी गई श्रधांजलि |  207 करोड़ रु सालाना वेतन लेने वाले बोइंग के सीईओ झेल रहे 34 साल की सबसे बड़ी चुनौती |  मौसम में बदलाव को लेकर फ्रांस में 220 शहरों में 3.5 लाख लोगों ने मार्च किया |  100 रुपए के 10 नोट को 3 बार में भी नहीं गिन सका दूल्हा, दुल्हन ने बारात लौटा दी |  झंडे-रैलियां नहीं, दिखे बायकॉट इलेक्शन के नारे और मुंह छिपाते भाजपाई | 

हम सब डंडे का ज़ोर ही समझते हैं

Post Views 4

November 18, 2018

मेरे एक मित्र सिंगापुर गए वे वहां की बात बता रहे थे।

रात के दो बजे खाली सड़क पर दो युवतियां सड़क पार करने के लिए हरी बत्ती का इंतज़ार कर रही थीं। सड़क पर यातायात बिल्कुल नहीं था बावजूद इसके वे लड़कियां हरी बत्ती होने का इंतज़ार करती रही।

इसे उस देश का कल्चर और अनुशासन ही कहा जाएगा जो उन्हें बचपन से सिखाया जाता है।

एक हम हिन्दुस्तानी हैं कि लाल बत्ती होने पर भी सिग्नल तोड़ कर भाग छूटते हैं।

कारण ना तो हमें कभी यातायात के नियमों का पालन करना सिखाया गया है और ना ही अनुशासन।

कुछ मेट्रो शहरों को छोड़ दें तो सिग्नल तोड़ने पर कोई कार्रवाई भी नहीं होती जो इस तरह के कृत्य करने वालों को बढ़ावा देती है।

यातायात कर्मचारी कम हैं जो हैं वे उगाही में लगे रहते हैं।

इसका एक ही उपाय समझ आ रहा है आनेवाली नई पौध को हम छोटी उम्र से ही यातायात नियमों का पालन करना स्कूली पाठ्यक्रम में सिखाएं पर मौजूदा लोगों को तो डंडे के ज़ोर से ही सिखाना होगा।

सरकार को मेरी सलाह है कि जितना खर्च वह यातायात कर्मचारियों की भर्ती पर करे अगर उसका एक चौथाई सी सी टी वी कैमरों पर खर्च करे तो सरकार को ना केवल इन कैमरों की लागत वापस मिल पाएगी अपितु राजस्व भी हासिल होगा।


देश का आम नागरिक कोई भी काम बिना डंडे के डर के करता ही नहीं है इसीलिए डंडा चाहे वह किसी भी रूप में हो आवश्यक है।

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

Latest News

March 18, 2019

दरगाह बाज़ार में कौमी एकता की मिसाल सर्व धर्म समाज के लोगों ने पेश की चादर के जुलूस में झूमे 

Read More

March 18, 2019

युवा कांग्रेस ने फिर उठाया बिजली के पोल का मुद्दा

Read More

March 18, 2019

मनीष मूलचंदानी के हत्यारे का पता न लगने पर आज सिन्धी समाज के लोगो ने कलेक्टर को दिया ज्ञापन

Read More

March 18, 2019

जैस्वाल जैन की महिलाओ ने आयोजित किया  होली मिलन समारोह

Read More

March 18, 2019

मुम्बई से 15 सदस्यो के दल ने दरगाह में चड़ाया चांदी का ताज

Read More

March 18, 2019

इनडोर स्टेडियम में गोवा के मुख्यमंत्री स्वर्गीय मनोहर पर्रिकर को दी गई श्रधांजलि

Read More

March 18, 2019

207 करोड़ रु सालाना वेतन लेने वाले बोइंग के सीईओ झेल रहे 34 साल की सबसे बड़ी चुनौती

Read More

March 18, 2019

मौसम में बदलाव को लेकर फ्रांस में 220 शहरों में 3.5 लाख लोगों ने मार्च किया

Read More

March 18, 2019

100 रुपए के 10 नोट को 3 बार में भी नहीं गिन सका दूल्हा, दुल्हन ने बारात लौटा दी

Read More

March 18, 2019

झंडे-रैलियां नहीं, दिखे बायकॉट इलेक्शन के नारे और मुंह छिपाते भाजपाई

Read More