RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Oct 18

ई - पेपर

Breaking News
आसियान-भारत ब्रेकफास्ट समिट में शामिल हुए मोदी, हैकाथन विजेताओं को दिए अवॉर्ड |  सैन्य संकट से जूझ रहा अमेरिका, जंग हुई तो चीन-रूस से हार सकता है: संसदीय पैनल |  जांच की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, केंद्र से कहा- कीमतें बताने की जरूरत नहीं |  राहुल के भाषणों में सिर्फ मोदी का जिक्र, वे भाजपा का प्रचार कर रहे या अपना: शाह |  इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत, अस्पताल पर 50 लाख का जुर्माना |  कोटा में मोदी, बूंदी में अमित शाह और झालावाड़ आएंगे राजनाथ सिंह |  भाजपा में बगावत बेकाबू, श्रीगंगानगर में पार्टी दफ्तर में तोड़फोड़, झंडों की होली जलाई |  गहलोत, पायलट और डूडी के ‘खास’ में उलझी कांग्रेस की चुनावी सूची |  भाजपा ने 31 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की, 3 मंत्रियों समेत 16 विधायकों के टिकट कटे |  सडक का निर्माण करों अन्यथा चुनाव का बहिष्कार करेंगे | 

क्या न्यायपालिका अमित शाह के हिटलरी बयान को गम्भीरता से लेगी ?

Post Views 7

October 29, 2018

बरीमाला मन्दिर में महिलाओं के प्रवेश के समर्थन में सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला लिया है उसका हर हालत में पालन होना ही चाहिए।

कुछ कट्टरपंथी अगर इस फैसले का विरोध कर रहे हैं तो उन पर सख्ती की जानी चाहिए। 

आखिर हम 21 वीं शताब्दी में जी रहे हैं और पुरातन आस्थाएं जो अप्रासंगिक हो गईं हैं बदली जानी ही चाहिएं।

अगर कुछ लोग वर्जनाओं में जीना चाहते हैं तो कानून उन्हें इसका अधिकार नहीं देता।

केरल सरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन कराने में लगी हुई है इसका उसे श्रेय मिलना चाहिए।

यहां एक बात समझ में नहीं आई कि कैसे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जिनकी कि सरकार देश पर शासन कर रही है केवल विशुद्ध वोटों की राजनीति करते हुए न्यायपालिका  को एक तरह से निर्देशित कर रहे हैं कि उसे किस तरह के फैसले लेने चाहिएं।

अमित शाह का बयान जो कानून व्यवस्था के खिलाफ तो है ही यह संविधान विरुद्ध भी है।

अमित शाह को इतना ही फैसले करवाने का शौक है तो उन्हें राजनीति छोड़कर  न्यायपालिका से जुड़ना चाहिए।

जो व्यक्ति केरल सरकार के मना करने के बावजूद उद्घाटन से पहले कन्नूर एयरपोर्ट पर उतरे मतलब जो खुद व्यवस्थाएं तोड़ने की पहल करे , जो नियम कायदे को ना माने वह व्यक्ति देश की सर्वोच्च न्यायपालिका से कहता है कि फैसले ऐसे ना दिए जाएं जो लागू न हो सकें।

कितना हास्यास्पद लगता है।


अमित शाह के बयान से ऐसा लग रहा है ( भले ही यह सच नहीं है) कि सरकार का न्यायपालिका पर कुछ नियंत्रण है , जो कि अच्छी स्थिति नहीं है।

अंतरराष्ट्रीय राजनीतिज्ञ अमित शाह के इस बयान का कुछ अच्छा मतलब नहीं निकालेंगे।


मेरा ऐसा मानना है मोदीजी को अमित शाह के  सुप्रीम कोर्ट के विरुद्ध दिए गए इस बयान पर अवश्य ही संज्ञान लेना चाहिए।


अगर ऐसा ना हुआ तो सुप्रीम कोर्ट की साख को धक्का लगेगा।


वैसे सुप्रीम कोर्ट को अमित शाह के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य ही देनी चाहिए।

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

        अजमेर

Latest News

November 15, 2018

आसियान-भारत ब्रेकफास्ट समिट में शामिल हुए मोदी, हैकाथन विजेताओं को दिए अवॉर्ड

Read More

November 15, 2018

सैन्य संकट से जूझ रहा अमेरिका, जंग हुई तो चीन-रूस से हार सकता है: संसदीय पैनल

Read More

November 15, 2018

जांच की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, केंद्र से कहा- कीमतें बताने की जरूरत नहीं

Read More

November 15, 2018

राहुल के भाषणों में सिर्फ मोदी का जिक्र, वे भाजपा का प्रचार कर रहे या अपना: शाह

Read More

November 15, 2018

इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत, अस्पताल पर 50 लाख का जुर्माना

Read More

November 15, 2018

कोटा में मोदी, बूंदी में अमित शाह और झालावाड़ आएंगे राजनाथ सिंह

Read More

November 15, 2018

भाजपा में बगावत बेकाबू, श्रीगंगानगर में पार्टी दफ्तर में तोड़फोड़, झंडों की होली जलाई

Read More

November 15, 2018

गहलोत, पायलट और डूडी के ‘खास’ में उलझी कांग्रेस की चुनावी सूची

Read More

November 15, 2018

भाजपा ने 31 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की, 3 मंत्रियों समेत 16 विधायकों के टिकट कटे

Read More

November 14, 2018

सडक का निर्माण करों अन्यथा चुनाव का बहिष्कार करेंगे

Read More