RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 47347049
Breaking News
बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ योजना के संबंध में बैठक गुरूवार को |  अभिभावक अपने बच्चों का खसरा रूबेला का टीकाकरण अवश्य कराएं - जिला कलक्टर |  बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय को नवीन स्थल पर शीघ्र स्थानान्तरित करें- जिला कलक्टर |  आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 का अजमेर में भी विरोध शुरू |  डी ए वी कॉलेज के एन सी सी के छात्रों ने अनुदान को लेकर किया प्रदर्शन |  ड्रग्स अवेयरनेस को निकाली रेली |  अज्ञात कारणों के चलते रेलवे के डाक कर्मचारी ने लगाईं फांसी |  जी सी ए कॉलेज में आज प्रवेश की आखरी तिथि |  अजमेर के गुलाबपुरा पर एक टैंकर में धमाका 3 जने झुलसे |  एस डी आर एफ की टीम ने आनासागर झील में किया मोकड्रिल | 

क्या न्यायपालिका अमित शाह के हिटलरी बयान को गम्भीरता से लेगी ?

Post Views 9

October 29, 2018

बरीमाला मन्दिर में महिलाओं के प्रवेश के समर्थन में सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला लिया है उसका हर हालत में पालन होना ही चाहिए।

कुछ कट्टरपंथी अगर इस फैसले का विरोध कर रहे हैं तो उन पर सख्ती की जानी चाहिए। 

आखिर हम 21 वीं शताब्दी में जी रहे हैं और पुरातन आस्थाएं जो अप्रासंगिक हो गईं हैं बदली जानी ही चाहिएं।

अगर कुछ लोग वर्जनाओं में जीना चाहते हैं तो कानून उन्हें इसका अधिकार नहीं देता।

केरल सरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन कराने में लगी हुई है इसका उसे श्रेय मिलना चाहिए।

यहां एक बात समझ में नहीं आई कि कैसे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जिनकी कि सरकार देश पर शासन कर रही है केवल विशुद्ध वोटों की राजनीति करते हुए न्यायपालिका  को एक तरह से निर्देशित कर रहे हैं कि उसे किस तरह के फैसले लेने चाहिएं।

अमित शाह का बयान जो कानून व्यवस्था के खिलाफ तो है ही यह संविधान विरुद्ध भी है।

अमित शाह को इतना ही फैसले करवाने का शौक है तो उन्हें राजनीति छोड़कर  न्यायपालिका से जुड़ना चाहिए।

जो व्यक्ति केरल सरकार के मना करने के बावजूद उद्घाटन से पहले कन्नूर एयरपोर्ट पर उतरे मतलब जो खुद व्यवस्थाएं तोड़ने की पहल करे , जो नियम कायदे को ना माने वह व्यक्ति देश की सर्वोच्च न्यायपालिका से कहता है कि फैसले ऐसे ना दिए जाएं जो लागू न हो सकें।

कितना हास्यास्पद लगता है।


अमित शाह के बयान से ऐसा लग रहा है ( भले ही यह सच नहीं है) कि सरकार का न्यायपालिका पर कुछ नियंत्रण है , जो कि अच्छी स्थिति नहीं है।

अंतरराष्ट्रीय राजनीतिज्ञ अमित शाह के इस बयान का कुछ अच्छा मतलब नहीं निकालेंगे।


मेरा ऐसा मानना है मोदीजी को अमित शाह के  सुप्रीम कोर्ट के विरुद्ध दिए गए इस बयान पर अवश्य ही संज्ञान लेना चाहिए।


अगर ऐसा ना हुआ तो सुप्रीम कोर्ट की साख को धक्का लगेगा।


वैसे सुप्रीम कोर्ट को अमित शाह के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य ही देनी चाहिए।

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

        अजमेर

Latest News

June 26, 2019

बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ योजना के संबंध में बैठक गुरूवार को

Read More

June 26, 2019

अभिभावक अपने बच्चों का खसरा रूबेला का टीकाकरण अवश्य कराएं - जिला कलक्टर

Read More

June 26, 2019

बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय को नवीन स्थल पर शीघ्र स्थानान्तरित करें- जिला कलक्टर

Read More

June 26, 2019

आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 का अजमेर में भी विरोध शुरू

Read More

June 26, 2019

डी ए वी कॉलेज के एन सी सी के छात्रों ने अनुदान को लेकर किया प्रदर्शन

Read More

June 26, 2019

ड्रग्स अवेयरनेस को निकाली रेली

Read More

June 26, 2019

अज्ञात कारणों के चलते रेलवे के डाक कर्मचारी ने लगाईं फांसी

Read More

June 26, 2019

जी सी ए कॉलेज में आज प्रवेश की आखरी तिथि

Read More

June 26, 2019

अजमेर के गुलाबपुरा पर एक टैंकर में धमाका 3 जने झुलसे

Read More

June 26, 2019

एस डी आर एफ की टीम ने आनासागर झील में किया मोकड्रिल

Read More