शहर का कोई भी हिस्सा इससे अछूता नहीं है।

शहर की हर छोटी बड़ी सड़क से लेकर हाईवे तक पर स्पीड ब्रेकर बने हुए हैं।

मजे की बात तो यह है कि इनपर सफेद काली पट्टियों से निशानदेही नहीं की गई है।

आप जब स्पीड ब्रेकर के पास तक पहुंच जाते हैं तब जाकर आपकी ये स्पीड ब्रेकर दिखते हैं।नतीजा आप जोर से ब्रेक लगाते हैं और अगर  चूक गए तो आप एक उछाल पाते हैं। दोनों ही सूरतों में आपकी रीढ़ की हड्डी में झटका लगना लाज़मी है।

छोटी छोटी कॉलोनियों की तो बात  और ही निराली है। कहीं कहीं तो हर घर ने अपने घर के  सामने स्पीड ब्रेकर बना लिए हैं क्योंकि किसी को भी कोई रोक

टोक नहीं है।

फिर प्रशासन के पास इतना समय भी नहीं है कि इतनी छोटी छोटी बातों पर ध्यान दे।

प्रशासन हाईवे पर स्पीड ब्रेकर बना तो देता है पर उन्हें काली सफेद पट्टियों से मार्किंग करने की उसे फुरसत नहीं या फिर हो सकता है उसका बजट सीधे सीधे  डकार लिया जाता हो।

इसी तरह जहां ये मार्किंग मिट जाती है वहां पर भी दोबारा मार्किंग समय रहते नहीं कराई जाती।

आपको शायद पता नहीं होगा सड़क दुर्घटनाओं में चोटिल और मारे जाने वाले  अधिकतर लोग स्पीड ब्रेकर का ही शिकार होते हैं।

अधिकतर स्पीड ब्रेकर गलत ढंग से बहुत ऊंचे बने हुए हैं।कई कई जगह जहां केवल एक स्पीड ब्रेकर की जरूरत है वहां तीन से पांच तक ब्रेकर बने हुए हैं।

प्रशासन शहर में कहीं भी इस बात की मॉनिटरिंग नहीं करता है कि शहर में बेवजह स्पीड ब्रेकर तो नहीं बने हुए हैं , जो बने हुए हैं उन पर मार्किंग है या नहीं है।

अब समय आ गया है जब प्रशासन को इस ओर ध्यान देने के साथ साथ जनता को शिक्षित करने का प्रोग्राम बनाने की जरूरत है कि वे गति पर नियंत्रण से सुरक्षित तरीके से अपने वाहन चलाएं ताकि स्पीड ब्रेकर की कम से कम जरूरत पड़े।

प्रशासन को संज्ञान हो कि उसकी लापरवाही कई लोगों की दुर्घटनाओं का कारण बन रही है।

आखिर क्यों प्रशासन आम आदमी की ज़िंदगियों से खेल रहा है ?

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

"/>

शहर का कोई भी हिस्सा इससे अछूता नहीं है।

शहर की हर छोटी बड़ी सड़क से लेकर हाईवे तक पर स्पीड ब्रेकर बने हुए हैं।

मजे की बात तो यह है कि इनपर सफेद काली पट्टियों से निशानदेही नहीं की गई है।

आप जब स्पीड ब्रेकर के पास तक पहुंच जाते हैं तब जाकर आपकी ये स्पीड ब्रेकर दिखते हैं।नतीजा आप जोर से ब्रेक लगाते हैं और अगर  चूक गए तो आप एक उछाल पाते हैं। दोनों ही सूरतों में आपकी रीढ़ की हड्डी में झटका लगना लाज़मी है।

छोटी छोटी कॉलोनियों की तो बात  और ही निराली है। कहीं कहीं तो हर घर ने अपने घर के  सामने स्पीड ब्रेकर बना लिए हैं क्योंकि किसी को भी कोई रोक

टोक नहीं है।

फिर प्रशासन के पास इतना समय भी नहीं है कि इतनी छोटी छोटी बातों पर ध्यान दे।

प्रशासन हाईवे पर स्पीड ब्रेकर बना तो देता है पर उन्हें काली सफेद पट्टियों से मार्किंग करने की उसे फुरसत नहीं या फिर हो सकता है उसका बजट सीधे सीधे  डकार लिया जाता हो।

इसी तरह जहां ये मार्किंग मिट जाती है वहां पर भी दोबारा मार्किंग समय रहते नहीं कराई जाती।

आपको शायद पता नहीं होगा सड़क दुर्घटनाओं में चोटिल और मारे जाने वाले  अधिकतर लोग स्पीड ब्रेकर का ही शिकार होते हैं।

अधिकतर स्पीड ब्रेकर गलत ढंग से बहुत ऊंचे बने हुए हैं।कई कई जगह जहां केवल एक स्पीड ब्रेकर की जरूरत है वहां तीन से पांच तक ब्रेकर बने हुए हैं।

प्रशासन शहर में कहीं भी इस बात की मॉनिटरिंग नहीं करता है कि शहर में बेवजह स्पीड ब्रेकर तो नहीं बने हुए हैं , जो बने हुए हैं उन पर मार्किंग है या नहीं है।

अब समय आ गया है जब प्रशासन को इस ओर ध्यान देने के साथ साथ जनता को शिक्षित करने का प्रोग्राम बनाने की जरूरत है कि वे गति पर नियंत्रण से सुरक्षित तरीके से अपने वाहन चलाएं ताकि स्पीड ब्रेकर की कम से कम जरूरत पड़े।

प्रशासन को संज्ञान हो कि उसकी लापरवाही कई लोगों की दुर्घटनाओं का कारण बन रही है।

आखिर क्यों प्रशासन आम आदमी की ज़िंदगियों से खेल रहा है ?

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

" />
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 55268832
Breaking News
भाजपा ने राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ कलेक्ट्री पर क्या विशाल प्रदर्शन |  जीसीए कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव के लिए अंतिम प्रत्याशियों की सूची जारी |  राजकीय कन्या महाविद्यालय से एबीवीपी के 2 प्रत्याशियों की निर्विरोध जीत |  कन्या महाविद्यालय में प्रत्यावर्तन के पश्चात योग्य प्रत्याशियों की अंतिम सूची जारी |  नाले पर हो रहे होटल निर्माण को लेकर व्यापारी ने जताया रोष |  फोन पे एप के द्वारा महिला के खाते से निकले 23000 रुपए |  कल सुभाष उद्यान में सजेगी कृष्ण की झांकियां |  हमेशा "जय श्री कृष्ण" लिख कर ही क्यूँ समाप्त करता हूँ मैं अपना ब्लॉग ?? आज श्री कॄष्ण जन्माष्टमी पर आपको बता रहा हूँ।* |  साेशल मीडिया पर एके-47 जैसे हथियाराें के साथ तस्वीरें वायरल कर पुलिस काे चुनाैती, गिरफ्तारी एक नहीं |  मॉब लिंचिंग पर घबराई पुलिस, रकबर मामले में ठोस पैरवी के लिए एक और वकील लगाया | 

आखिर क्यों प्रशासन  आम आदमी की ज़िंदगियों से खेल रहा है ?

Post Views 9

October 19, 2018

आखिर क्यों प्रशासन  आम आदमी की ज़िंदगियों से खेल रहा है ?


में समझता हूं कि "स्पीड ब्रेकर" आज के समाज की हड्डियों को हिला देने वाली दर्द भरी समस्या है।

शहर का कोई भी हिस्सा इससे अछूता नहीं है।

शहर की हर छोटी बड़ी सड़क से लेकर हाईवे तक पर स्पीड ब्रेकर बने हुए हैं।

मजे की बात तो यह है कि इनपर सफेद काली पट्टियों से निशानदेही नहीं की गई है।

आप जब स्पीड ब्रेकर के पास तक पहुंच जाते हैं तब जाकर आपकी ये स्पीड ब्रेकर दिखते हैं।नतीजा आप जोर से ब्रेक लगाते हैं और अगर  चूक गए तो आप एक उछाल पाते हैं। दोनों ही सूरतों में आपकी रीढ़ की हड्डी में झटका लगना लाज़मी है।

छोटी छोटी कॉलोनियों की तो बात  और ही निराली है। कहीं कहीं तो हर घर ने अपने घर के  सामने स्पीड ब्रेकर बना लिए हैं क्योंकि किसी को भी कोई रोक

टोक नहीं है।

फिर प्रशासन के पास इतना समय भी नहीं है कि इतनी छोटी छोटी बातों पर ध्यान दे।

प्रशासन हाईवे पर स्पीड ब्रेकर बना तो देता है पर उन्हें काली सफेद पट्टियों से मार्किंग करने की उसे फुरसत नहीं या फिर हो सकता है उसका बजट सीधे सीधे  डकार लिया जाता हो।

इसी तरह जहां ये मार्किंग मिट जाती है वहां पर भी दोबारा मार्किंग समय रहते नहीं कराई जाती।

आपको शायद पता नहीं होगा सड़क दुर्घटनाओं में चोटिल और मारे जाने वाले  अधिकतर लोग स्पीड ब्रेकर का ही शिकार होते हैं।

अधिकतर स्पीड ब्रेकर गलत ढंग से बहुत ऊंचे बने हुए हैं।कई कई जगह जहां केवल एक स्पीड ब्रेकर की जरूरत है वहां तीन से पांच तक ब्रेकर बने हुए हैं।

प्रशासन शहर में कहीं भी इस बात की मॉनिटरिंग नहीं करता है कि शहर में बेवजह स्पीड ब्रेकर तो नहीं बने हुए हैं , जो बने हुए हैं उन पर मार्किंग है या नहीं है।

अब समय आ गया है जब प्रशासन को इस ओर ध्यान देने के साथ साथ जनता को शिक्षित करने का प्रोग्राम बनाने की जरूरत है कि वे गति पर नियंत्रण से सुरक्षित तरीके से अपने वाहन चलाएं ताकि स्पीड ब्रेकर की कम से कम जरूरत पड़े।

प्रशासन को संज्ञान हो कि उसकी लापरवाही कई लोगों की दुर्घटनाओं का कारण बन रही है।

आखिर क्यों प्रशासन आम आदमी की ज़िंदगियों से खेल रहा है ?

जयहिंद।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

Latest News

August 23, 2019

भाजपा ने राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ कलेक्ट्री पर क्या विशाल प्रदर्शन

Read More

August 23, 2019

जीसीए कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव के लिए अंतिम प्रत्याशियों की सूची जारी

Read More

August 23, 2019

राजकीय कन्या महाविद्यालय से एबीवीपी के 2 प्रत्याशियों की निर्विरोध जीत

Read More

August 23, 2019

कन्या महाविद्यालय में प्रत्यावर्तन के पश्चात योग्य प्रत्याशियों की अंतिम सूची जारी

Read More

August 23, 2019

नाले पर हो रहे होटल निर्माण को लेकर व्यापारी ने जताया रोष

Read More

August 23, 2019

फोन पे एप के द्वारा महिला के खाते से निकले 23000 रुपए

Read More

August 23, 2019

कल सुभाष उद्यान में सजेगी कृष्ण की झांकियां

Read More

August 23, 2019

हमेशा "जय श्री कृष्ण" लिख कर ही क्यूँ समाप्त करता हूँ मैं अपना ब्लॉग ?? आज श्री कॄष्ण जन्माष्टमी पर आपको बता रहा हूँ।*

Read More

August 23, 2019

साेशल मीडिया पर एके-47 जैसे हथियाराें के साथ तस्वीरें वायरल कर पुलिस काे चुनाैती, गिरफ्तारी एक नहीं

Read More

August 23, 2019

मॉब लिंचिंग पर घबराई पुलिस, रकबर मामले में ठोस पैरवी के लिए एक और वकील लगाया

Read More