RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Oct 18

ई - पेपर

Breaking News
आसियान-भारत ब्रेकफास्ट समिट में शामिल हुए मोदी, हैकाथन विजेताओं को दिए अवॉर्ड |  सैन्य संकट से जूझ रहा अमेरिका, जंग हुई तो चीन-रूस से हार सकता है: संसदीय पैनल |  जांच की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, केंद्र से कहा- कीमतें बताने की जरूरत नहीं |  राहुल के भाषणों में सिर्फ मोदी का जिक्र, वे भाजपा का प्रचार कर रहे या अपना: शाह |  इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत, अस्पताल पर 50 लाख का जुर्माना |  कोटा में मोदी, बूंदी में अमित शाह और झालावाड़ आएंगे राजनाथ सिंह |  भाजपा में बगावत बेकाबू, श्रीगंगानगर में पार्टी दफ्तर में तोड़फोड़, झंडों की होली जलाई |  गहलोत, पायलट और डूडी के ‘खास’ में उलझी कांग्रेस की चुनावी सूची |  भाजपा ने 31 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की, 3 मंत्रियों समेत 16 विधायकों के टिकट कटे |  सडक का निर्माण करों अन्यथा चुनाव का बहिष्कार करेंगे | 
madhukarkhin






पेट्रोल और डीजल को लेकर बंद केवल राजनीति नहीं आम आदमी आखिर कब तक सहेगा कमरतोड़ कीमतें ?

Post Views 2

September 10, 2018

आज एक निजी पारिवारिक समारोह में गया । जहां पर हमारे घनिष्ठ मित्र के एनआरआई जवाई भी मौजूद थे । बातों में बात चली कि क्या कांग्रेस का पेट्रोल और डीजल के भाव को लेकर आगामी बंद शांतिपूर्वक सफल होगा ? या कुछ हिंसा होगी ? उसमे एक अन्य मित्र ने कहा कि नहीं साहब जनता बहुत परेशान है पेट्रोल पर भारी कर अदा कर रही कर रहे आम आदमी को इस चीज से बहुत तकलीफ पहुंच रही है इसलिए इसमें किसी हिंसा की आवश्यकता नहीं पड़ेगी और स्वेच्छा से ही लोग इस बंद का समर्थन करेंगे जिसका श्रेय कांग्रेस ले जाएगी । बात में दम दिखाई भी दे रहा था लेकिन तभी हमारे मित्र के एनआरआई जवाई राजा बिल्कुल तलवार लेकर मैदान में आकर जैसे भिड़ गए और पेट्रोल के दाम वृद्धि के समर्थन में अपने अजीब-अजीब तर्क देने लगे । कहने लगे की सारे देश की समस्याओं का हल क्या सिर्फ 5 साल में हो जाएगा ? सरकार को और समय देना चाहिए हमें ताकि संपूर्ण समस्याओं का निपटारा किया जा सके। मैं चुपचाप बैठा यह सारा वार्तालाप सुन रहा था और सोच रहा था की इन महाशय के पास तो ईश्वर का दिया हुआ सब कुछ है। और इनको तो शायद भारत देश में आम आदमी द्वारा दिए जाने वाले भारी भरकम कर का भी बोझ नहीं उठाना पड़ता है , इसलिए इनको यह सब बहुत सरल लग रहा है । अभी मैं यह सोच रहा था उसके बीच जवाई जी ने बम दे मारा और बोलो कि आखिर हमें प्रति लीटर 10 प्रतिशत ही तो ज्यादा देना पड़ रहा है । विपक्ष जीएसटी के दायरे में लाकर केवल 10 प्रतिशत ही यो कीमत घटा पायेगा । जो की एक लीटर प्रतिदिन की खपत करने वाले आम नागरिक को केवल 8 रुपये प्रतिदिन यानी कि कुल 240 रुपये महीना ही तो ज्यादा देना पड़ रहा है । अब 240 रुपये के फर्क के लिए सरकार बदल दूं ? यह तो कोई समझदारी वाली बात नहीं हुई । फिर विपक्ष में भी प्रधानमंत्री के सामने ऐसा कौन सा योग्य चेहरा बैठा है जिसको देश की बागडोर आम आदमी मात्र 240 रुपये महीने के नुकसान  को बचाने के लिए सौंप दें । मैं महोदय की एक बात से बिल्कुल इत्तेफाक रखता हूं कि हां वाकई नरेंद्र मोदी के सामने इस वक्त कांग्रेस कोई भी ऐसा बड़ा चेहरा नहीं दे पा रही है जिसको मोदी के समकक्ष योग्य मान लिया जाए। परंतु ₹240 वाली बात सुनकर मुझे उस एनआरआई की सोच और समझ पर तरस आ रहा है औरत तरस क्यों आ रहा है कि उस महान पुरुष को मात्र ₹240 दिखाई दे रहे हैं , यह नहीं दिखाई दे रहा है कि पेट्रोल और डीजल के दामों की वृद्धि केवल निजी गाड़ियों और एक 1 लीटर पेट्रोल रोज के खर्चे तक सीमित नहीं है । इसके पीछे माल भाड़ा और ट्रांसपोर्टेशन चार्जेस भी बढ़ते हैं जिसकी वजह से खाद्य सामग्री और जीवन यापन का सामान भी उसी अनुपात में महंगा हो चला है। जो कि चिंताजनक बात है। एक चिंता जनक बात यह भी है कि इन दिनों बड़े सुनियोजित ढंग से सोशल मीडिया पर बाकायदा अभियान चलाकर लोगों को जातिवादी चश्मे पहनाए जा रहे हैं , जिनकी वजह से लगभग हर जाति विशेष में कट्टरता में बढ़ोतरी हुई है । और इसी कट्टरता का अनुचित लाभ उठाकर सत्ता के कीड़े इस देश को खोखला करने में कहीं कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं।  मेरा मानना है कि आम आदमी द्वारा इस  बंद को केवल राजनीतिक दृष्टिकोण से ना देखा जाए अपितु जेब पर पड़ रहे अनुचित भार और महंगाई की मार को भ8 ध्यान में रखा जाए। अहम बात यह है की देश निर्माण की बड़ी-बड़ी बातें करने वाले राजनेताओं को इस बात का ख्याल नहीं रहा है कि आखिर किन हदों तक आम आदमी की कमर पेट्रोल डीजल की वजह से बढ़ी हुई महंगाई की मार झेल सकती है । कहने को तो इस देश का मिडिल क्लास बहुत सहनशील है परंतु अति हर बात की बुरी होती है। *यदि इसी तरह से महंगाई आम आदमी की कमर तोड़ती रही और नेता लोग देश निर्माण का हवाला दे कर जनता का शोषण करते रहे तो वह दिन दूर नहीं है कि संसद में बैठे इन गैरज़िम्मेदार नेताओं को आम लोगों की भीड़ संसद से उठा कर बाहर फेंक देगी।* 


जय श्री कृष्णा


नरेश राघानी

प्रधान संपादक 

www.horizonhind.com

9829070307

Latest News

November 15, 2018

आसियान-भारत ब्रेकफास्ट समिट में शामिल हुए मोदी, हैकाथन विजेताओं को दिए अवॉर्ड

Read More

November 15, 2018

सैन्य संकट से जूझ रहा अमेरिका, जंग हुई तो चीन-रूस से हार सकता है: संसदीय पैनल

Read More

November 15, 2018

जांच की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, केंद्र से कहा- कीमतें बताने की जरूरत नहीं

Read More

November 15, 2018

राहुल के भाषणों में सिर्फ मोदी का जिक्र, वे भाजपा का प्रचार कर रहे या अपना: शाह

Read More

November 15, 2018

इलाज में लापरवाही से मरीज की मौत, अस्पताल पर 50 लाख का जुर्माना

Read More

November 15, 2018

कोटा में मोदी, बूंदी में अमित शाह और झालावाड़ आएंगे राजनाथ सिंह

Read More

November 15, 2018

भाजपा में बगावत बेकाबू, श्रीगंगानगर में पार्टी दफ्तर में तोड़फोड़, झंडों की होली जलाई

Read More

November 15, 2018

गहलोत, पायलट और डूडी के ‘खास’ में उलझी कांग्रेस की चुनावी सूची

Read More

November 15, 2018

भाजपा ने 31 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की, 3 मंत्रियों समेत 16 विधायकों के टिकट कटे

Read More

November 14, 2018

सडक का निर्माण करों अन्यथा चुनाव का बहिष्कार करेंगे

Read More