RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Oct 18

ई - पेपर

Breaking News
HORIZON HIND NEWS - BULLETIN 23 OCT 2018 |  फ़िल्म"समर कैम्प"की टीम ने आज अजमेर शरीफ  दरगाह में दी हाजरी |  गाँधी पीस फाउंडेशन के संवाद यात्रा पहुची अजमेर |  ज्ञान विहार कॉलोनी स्तिथ एक मकान में चोरो ने 20 लाख का माल किया साफ़ |  महावीर इंटरनेशनल संस्था ने किया दीपावली का पोस्टर विमोचन |  तीन बच्चो का हवाला देकर महिला सफाई कर्मचारी को हटाया नोकरी से |  नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले बबलू को भेजा जेल |  तोपदड़ा स्कूल के बच्चो के बिच हुआ स्पेल विज़ार्ड कांटेस्ट |  दशहरा के आयोजक ने कहा- 10 बार लोगों से ट्रैक से हटने की अपील की, मेरा क्या कसूर? |  निचली अदालतों में जजों के 5000 पद खाली, सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों और सभी हाईकोर्ट से मांगा जवाब | 

एक्सपर्ट्स बोले, बच्चों के लिए खतरनाक हैं इतने ज्यादा नंबर, इस अंधी होड़ में न भागें

Post Views 7

June 13, 2018

नेशनल डेस्क। मंगलवार को CBSE के 10वीं बोर्ड के नतीजे आए। इनमें 1,31,493 स्टूडेंट्स को 90% से ज्यादा तो 27,476 स्टूडेंट्स को 95% से ज्यादा मार्क्स आए हैं। वहीं, रिजल्ट के तुरंत बाद उम्मीद से कम नंबर आने पर तीन बच्चों ने सुसाइड कर लिया।

आखिर सीबीएसई की एग्जाम में स्टूडेंट्स को इतने नंबर क्यों मिल रहे हैं? और नंबरों की इस अंधी दौड़ ने क्या बच्चों और पैरेंट्स पर एक्स्ट्रा प्रेशर नहीं डाल दिया? नंबरों की इस मार-काट वाली प्रतिस्पर्धा ने हमारे पूरे एजुकेशन सिस्टम पर ही सवाल खड़े कर दिए है। इस सवाल को लेकर DainikBhaskar.com ने बात की सीबीएसई के पूर्व चेयरमैन अशोक गांगुली, एनसीईआरटी के पूर्व डायरेक्टर व शिक्षाविद् जेएस राजपूत, सीबीएसई में काउंसलर एंड साइकोलॉजिस्ट डॉ. शिखा रस्तोगीऔर शिक्षा क्षेत्र से जुड़े अन्य जानकार लोगों और टीचर्स से।

नंबर्स की बाढ़ से बढ़ेंगी ये 3 प्रॉब्लम :


1.अनावश्यक प्रेशर बढ़ेगा :सीबीएसई के पूर्व चेयरमैन अशोक गांगुलीकहते हैं कि नंबरों की यह दौड़ चिंताजनक है। बच्चों पर प्रीमियम परफॉर्मेंस के लिए जोर दिया जा रहा है। इससे न केवल बच्चों और पैरेंट्स पर प्रेशर बढ़ेगा, बल्कि जिन बच्चों के ज्यादा नंबर नहीं आएंगे या 70-75 फीसदी मार्क्स लाने वाले बच्चे अपने फ्यूचर को लेकर दुविधा में आ जाएंगे।

2.बढ़ेगा फ्रस्टेशन : एनसीईआरटी के पूर्व डायरेक्टर और शिक्षाविद्जेएस राजपूत एक उदाहरण देते हुए कहते हैं कि रिजल्ट डिक्लेयर होते ही एक बच्चा उनके पास आया। उसके 95 फीसदी मार्क्स थे। वह बहुत खुश था। लेकिन जब वह स्कूल गया तो वहां स्कूल मैनेजमेंट ने एक लिस्ट लगा रखी थी जिसमें उसका 47वां नंबर था। वह यह देखकर वह फ्रस्टेट हो गया। वे कहते हैं कि कम नंबर्स लाने वाले बच्चे तो फ्रस्टेट होंगे ही, जिन बच्चों के अधिक नंबर आए हैं, उन्हें भी भविष्य में दिक्कत हो सकती है। अब उनसे हमेशा बेहतर परफॉर्म करने की उम्मीद रहेगी। अगर वे फ्यूचर में अच्छा परफॉर्म नहीं करते हैं तो उनमें और ज्यादा फ्रस्टेशन आएगा। मनोवैज्ञानिक रूप से ऐसे बच्चे ज्यादा परेशान होंगे।

Latest News

October 23, 2018

HORIZON HIND NEWS - BULLETIN 23 OCT 2018

Read More

October 23, 2018

फ़िल्म"समर कैम्प"की टीम ने आज अजमेर शरीफ  दरगाह में दी हाजरी

Read More

October 23, 2018

गाँधी पीस फाउंडेशन के संवाद यात्रा पहुची अजमेर

Read More

October 23, 2018

ज्ञान विहार कॉलोनी स्तिथ एक मकान में चोरो ने 20 लाख का माल किया साफ़

Read More

October 23, 2018

महावीर इंटरनेशनल संस्था ने किया दीपावली का पोस्टर विमोचन

Read More

October 23, 2018

तीन बच्चो का हवाला देकर महिला सफाई कर्मचारी को हटाया नोकरी से

Read More

October 23, 2018

नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले बबलू को भेजा जेल

Read More

October 23, 2018

तोपदड़ा स्कूल के बच्चो के बिच हुआ स्पेल विज़ार्ड कांटेस्ट

Read More

October 23, 2018

दशहरा के आयोजक ने कहा- 10 बार लोगों से ट्रैक से हटने की अपील की, मेरा क्या कसूर?

Read More

October 23, 2018

निचली अदालतों में जजों के 5000 पद खाली, सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों और सभी हाईकोर्ट से मांगा जवाब

Read More