अशोक गहलोत को केन्द्र या गुजरात या किसी महत्वपूर्ण स्थान पर खपाया जा सकता है।

राहुल और सोनिया के नेतृत्व का सम्मान ही है कि गुजरात में गहलोत ने काम किया तो वहां पायलट नहीं थे और राजस्थान में पायलट ने काम किया तो अशोक गहलोत नहीं थे।

कांग्रेस में संघर्ष या विरोध  इन वरिष्ठ पत्रकार की दिमागी उपज भर है।ऐसा कुछ भी नहीं होनेवाला।

पत्रकार महोदय यहीं पर नहीं रुके उन्होंने राहुल गांधी को गलत साबित करते हुए उन्हें राजनीति का पाठ भी पढ़ा दिया कि राजनीति में जो बोला जाता है वह किया नहीं जाता और जो किया जाता है वह बताया नहीं जाता।

प्रभु करें इन्हें राहुल गांधी अपना सलाहकार बना लें।

मुझे तो सचिन पायलट के अजमेर दरगाह में चादर चढ़ाने के प्रोग्राम में गहलोत और जोशी के न होने में कांग्रेस की एकता और राहुल गांधी के फैसले का सम्मान ही नज़र आता है।

हो सकता है मेरी सोच सकारात्मक है और इन भाई साहब की नकारात्मक।

कांग्रेस में अगर विरोध या संघर्ष  के बीज पनपे होते तो आज राहुल गांधी की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष कोई और होता।

अन्त में मेरा मानना है राहुल गांधी युवा और अनुभवियों के बीच सामंजस्य बिठाकर सबको उपयुक्त स्थान सौंपेंगे।

जयहिन्द।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

"/>

अशोक गहलोत को केन्द्र या गुजरात या किसी महत्वपूर्ण स्थान पर खपाया जा सकता है।

राहुल और सोनिया के नेतृत्व का सम्मान ही है कि गुजरात में गहलोत ने काम किया तो वहां पायलट नहीं थे और राजस्थान में पायलट ने काम किया तो अशोक गहलोत नहीं थे।

कांग्रेस में संघर्ष या विरोध  इन वरिष्ठ पत्रकार की दिमागी उपज भर है।ऐसा कुछ भी नहीं होनेवाला।

पत्रकार महोदय यहीं पर नहीं रुके उन्होंने राहुल गांधी को गलत साबित करते हुए उन्हें राजनीति का पाठ भी पढ़ा दिया कि राजनीति में जो बोला जाता है वह किया नहीं जाता और जो किया जाता है वह बताया नहीं जाता।

प्रभु करें इन्हें राहुल गांधी अपना सलाहकार बना लें।

मुझे तो सचिन पायलट के अजमेर दरगाह में चादर चढ़ाने के प्रोग्राम में गहलोत और जोशी के न होने में कांग्रेस की एकता और राहुल गांधी के फैसले का सम्मान ही नज़र आता है।

हो सकता है मेरी सोच सकारात्मक है और इन भाई साहब की नकारात्मक।

कांग्रेस में अगर विरोध या संघर्ष  के बीज पनपे होते तो आज राहुल गांधी की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष कोई और होता।

अन्त में मेरा मानना है राहुल गांधी युवा और अनुभवियों के बीच सामंजस्य बिठाकर सबको उपयुक्त स्थान सौंपेंगे।

जयहिन्द।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

" />
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 60163819
Breaking News
Ajmer Breaking News: ऑल इंडिया एसटीएससी रेलवे एसोसिएशन के 60 वर्ष पूरे |  Ajmer Breaking News: इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों ने कॉलेज के गेट के ऊपर चढ़कर किया प्रदर्शन |  Ajmer Breaking News: जी सी ए कॉलेज में चल रही दो दिवसीय संगोष्ठी का समापन |  Ajmer Breaking News: केंद्रीय कारागृह भ्रष्टाचार प्रकरण में तीन और आरोपी गिरफ्तार |  Ajmer Breaking News: केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान अजमेर दौरे |  Ajmer Breaking News: टेस्ट लेने के लिए सीईओ हर्षवर्धन बैंक ऑफ बड़ौदा का बजवाया सायरन |  Ajmer Breaking News: नगर निगम ने बाजार से जप्त की 80 किलो प्लास्टिक |  Ajmer Breaking News: नाका मदार क्षेत्र वासियों ने पानी की समस्या को लेकर किया प्रदर्शन |  Ajmer Breaking News: पोषण अभियान के तहत विद्यालय में भोजन वितरित |  Ajmer Breaking News: सिंधी युवाओं ने जलाया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पुतला | 

कांग्रेस में अगर विरोध या संघर्ष के बीज पनपे होते तो आज राहुल गांधी की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष कोई और होता।

Post Views 13

March 26, 2018


कांग्रेस में अगर विरोध या संघर्ष के बीज पनपे होते तो आज राहुल गांधी की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष कोई और होता।


राहुल गांधी के अध्यक्ष बनते ही कांग्रेस की एक नयी शुरुआत , युवा शुरुआत हो गई है। इसके संकेत राहुल गांधी ने 84 वें अधिवेशन में अपने भाषण में दे दी थी। राहुल ने जब युवाओं के लिये खाली स्थान को भरने की बात की तो बहुत देर तक तालियां बजीं , मतलब साफ कि सबको उनकी बात पसन्द आई और कार्यकर्त्ताओं में युवा बाहुल्य था। बुजुर्गों का कार्यक्षेत्र बदला जा सकता है। उन्हें कुछ और ज़िम्मेदारी दी जा सकती है।ऐसा ही बहुत कुछ बीजेपी में यशवन्त सिन्हा , मुरली मनोहर जोशी और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ हुआ है।


अब अगर राजस्थान की ज़िम्मेदारी सचिन पायलट को सौंप दी गई है तो उनके कार्यक्रमों में अशोक गहलोत या सीपी जोशी का क्या काम ?

पर इसमें एक वरिष्ठ पत्रकार को "संघर्ष" की बू नज़र आ रही है।

अशोक गहलोत को केन्द्र या गुजरात या किसी महत्वपूर्ण स्थान पर खपाया जा सकता है।

राहुल और सोनिया के नेतृत्व का सम्मान ही है कि गुजरात में गहलोत ने काम किया तो वहां पायलट नहीं थे और राजस्थान में पायलट ने काम किया तो अशोक गहलोत नहीं थे।

कांग्रेस में संघर्ष या विरोध  इन वरिष्ठ पत्रकार की दिमागी उपज भर है।ऐसा कुछ भी नहीं होनेवाला।

पत्रकार महोदय यहीं पर नहीं रुके उन्होंने राहुल गांधी को गलत साबित करते हुए उन्हें राजनीति का पाठ भी पढ़ा दिया कि राजनीति में जो बोला जाता है वह किया नहीं जाता और जो किया जाता है वह बताया नहीं जाता।

प्रभु करें इन्हें राहुल गांधी अपना सलाहकार बना लें।

मुझे तो सचिन पायलट के अजमेर दरगाह में चादर चढ़ाने के प्रोग्राम में गहलोत और जोशी के न होने में कांग्रेस की एकता और राहुल गांधी के फैसले का सम्मान ही नज़र आता है।

हो सकता है मेरी सोच सकारात्मक है और इन भाई साहब की नकारात्मक।

कांग्रेस में अगर विरोध या संघर्ष  के बीज पनपे होते तो आज राहुल गांधी की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष कोई और होता।

अन्त में मेरा मानना है राहुल गांधी युवा और अनुभवियों के बीच सामंजस्य बिठाकर सबको उपयुक्त स्थान सौंपेंगे।

जयहिन्द।

राजेन्द्र सिंह हीरा

       अजमेर

Latest News

September 19, 2019

ऑल इंडिया एसटीएससी रेलवे एसोसिएशन के 60 वर्ष पूरे

Read More

September 19, 2019

इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों ने कॉलेज के गेट के ऊपर चढ़कर किया प्रदर्शन

Read More

September 19, 2019

जी सी ए कॉलेज में चल रही दो दिवसीय संगोष्ठी का समापन

Read More

September 19, 2019

केंद्रीय कारागृह भ्रष्टाचार प्रकरण में तीन और आरोपी गिरफ्तार

Read More

September 19, 2019

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान अजमेर दौरे

Read More

September 19, 2019

टेस्ट लेने के लिए सीईओ हर्षवर्धन बैंक ऑफ बड़ौदा का बजवाया सायरन

Read More

September 19, 2019

नगर निगम ने बाजार से जप्त की 80 किलो प्लास्टिक

Read More

September 19, 2019

नाका मदार क्षेत्र वासियों ने पानी की समस्या को लेकर किया प्रदर्शन

Read More

September 19, 2019

पोषण अभियान के तहत विद्यालय में भोजन वितरित

Read More

September 19, 2019

सिंधी युवाओं ने जलाया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पुतला

Read More