इतना ही नहीं रिपुन बोरा ने "सिन्ध" शब्द को हटाकर "पूर्वोत्तर" को जोड़ने की मांग की है। हालांकि यह सम्भव नहीं है कि एक सांसद की निजी राय को मान लिया जाय।

सदन में इसपर बहस की सम्भावना है।

रिपुन बोरा ने यह निजी प्रस्ताव रखने की इसलिये मांग की है क्योंकि संविधान में राष्ट्रगान में संशोधन करने की इज़ाज़त दी गई है।

इसी संशोधन का ज़िक्र तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद जी ने 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा में किया था।

रिपुन बोरा का कहना है कि रवीन्द्र नाथ टैगोर ने जब राष्ट्रगान की रचना की थी तब देश की भौगोलिक स्थिति आज से भिन्न थी। बोरा का कहना है कि पूर्वोत्तर भारत का अभिन्न अंग हैं इसलिये इनका समावेश राष्ट्रगान में होना चाहिये।

सवाल अब यह उठता है कि राष्ट्रगान से अगर सिन्ध हटाकर उसमें पूर्वोत्तर जोड़ा जाता है तो जम्मू-कश्मीर का एतराज आएगा कि उनका नाम क्यों नहीं है और जम्मू-कश्मीर का नाम पंजाब से पहले आना चाहिये ?

द्राविड़ शब्द दक्षिण भारत को दर्शाता है तो उसपर भी विवाद की सम्भावना रहेगी।

राष्ट्रगान में वर्णित "भारत भाग्य विधाता" और "अधिनायक" पर भी विवाद हो चुके हैं।

" />
RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 48814030
Breaking News

राष्ट्रगान से सिन्ध नहीं हटेगा हाँ चाहें तो सर्वमान्य नया राष्ट्रगान बना लें

Post Views 8

March 17, 2018

राष्ट्रगान से सिन्ध नहीं हटेगा हाँ चाहें तो सर्वमान्य नया राष्ट्रगान बना लें।


कल यानि कि 16 मार्च 2018 को कांग्रेस के सांसद रिपुन बोरा ने राज्यसभा में राष्ट्रगान से सम्बंधित एक निजी प्रस्ताव दिया है। प्रस्ताव में राष्ट्रगान से यह कहते हुए "सिन्ध" शब्द को हटाने की मांग की गई है कि सिन्ध अब भारत का हिस्सा नहीं है।

इतना ही नहीं रिपुन बोरा ने "सिन्ध" शब्द को हटाकर "पूर्वोत्तर" को जोड़ने की मांग की है। हालांकि यह सम्भव नहीं है कि एक सांसद की निजी राय को मान लिया जाय।

सदन में इसपर बहस की सम्भावना है।

रिपुन बोरा ने यह निजी प्रस्ताव रखने की इसलिये मांग की है क्योंकि संविधान में राष्ट्रगान में संशोधन करने की इज़ाज़त दी गई है।

इसी संशोधन का ज़िक्र तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद जी ने 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा में किया था।

रिपुन बोरा का कहना है कि रवीन्द्र नाथ टैगोर ने जब राष्ट्रगान की रचना की थी तब देश की भौगोलिक स्थिति आज से भिन्न थी। बोरा का कहना है कि पूर्वोत्तर भारत का अभिन्न अंग हैं इसलिये इनका समावेश राष्ट्रगान में होना चाहिये।

सवाल अब यह उठता है कि राष्ट्रगान से अगर सिन्ध हटाकर उसमें पूर्वोत्तर जोड़ा जाता है तो जम्मू-कश्मीर का एतराज आएगा कि उनका नाम क्यों नहीं है और जम्मू-कश्मीर का नाम पंजाब से पहले आना चाहिये ?

द्राविड़ शब्द दक्षिण भारत को दर्शाता है तो उसपर भी विवाद की सम्भावना रहेगी।

राष्ट्रगान में वर्णित "भारत भाग्य विधाता" और "अधिनायक" पर भी विवाद हो चुके हैं।

Latest News

July 16, 2019

व्याख्याताओं को अन्य कॉलेज में पढाने का फरमान जारी

Read More

July 16, 2019

एसडी कॉलेज में निशुल्क कोचिंग कक्षाए शुरु

Read More

July 16, 2019

मुख्य बाजार से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की

Read More

July 16, 2019

अतिक्रमण हटाने पर शराबी युवक ने की पुलिस से हाथापाई

Read More

July 16, 2019

विभिन्न मांगों को लेकर सेवानिवृत रोडवेज कर्मीयों ने किया विरोध प्रदर्शन

Read More

July 16, 2019

गुरु पुर्णिमा उत्सव श्रद्धा पुर्वक मनाया

Read More

July 16, 2019

बाल बहानी चालक बैठे हड़ताल पर अपनी मांगों को लेकर कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

Read More

July 16, 2019

फ्रांस के रहने वाले युवक पर चाकू से वार

Read More

July 16, 2019

इंद्रा देव को मनाने के लिए वर्षा यज्ञ का आयोजन

Read More

July 16, 2019

जैसलमेर में सुरेश सेन नामक युवक के साथ हुई मारपीट को लेकर सेन समाज ने किया प्रदर्शन

Read More