RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 47318056
Breaking News
पंचायत उप चुनाव ः जिले में 23 वार्डपंच निर्विरोध निर्वाचित |  मिसाल डिस्टि्रक हैल्थ रेकिंग में अजमेर द्वितीय स्थान पर |  स्मार्ट सिटी योजना में हुए करोड़ों रूपए के विकास कार्य अतिरिक्त जिला कलक्टर ने दी जानकारी, जारी रहेंगे काम |  जिला स्तरीय शान्ति समिति की बैठक सम्पन जिले में शान्ति, सौहार्द एवं सद्भाव बनाए रखना हमारी सभी की प्राथमिकता - जिला कलक्टर |  आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी से पीड़ित लोगो ने ली न्यायलय की शरण |  कलेक्टर सभागार में शांति समिति की बैठक आयोजित |  लुटेरो ने माहोल बनाकर एक व्यापारी के स्कूटर से लुटे 2 लाख 65 हजार रूपए |  माखूपूरा क्षेत्र स्तिथ जलदाय विभाग पर बंदरो ने मचाया आतंक |  राजस्व मण्डल कार्यालय में चोरी |  आर एस 2018 की मुख्य परीक्षा हुई आज से प्रारंभ | 
madhukarkhin

दुख के सारे पर्वत जिसनें सिर पर लिए उठाए विष सारे संसार का पीकर नीलकंठ कहलाये

Post Views 26

February 18, 2014

आज महाशिवरात्रि है। भगवान शिव की स्तुति और आराधना का यह पर्व सारा संसार आज के दिन मनाता है। शिव अपने आप में त्याग का प्रतीक हैं। हमारी सभ्यता,संस्कृति और भारत के अध्यात्म में सृजन भाव के लिए ब्रह्मा जी को, संचालन भाव के लिए भगवान विष्णु को, और त्याग भावना हेतु भगवान शिव को पूजा जाता है। अर्थात हमारी सभ्यता में भाव का सम्मान है। भगवान शिव की आराधना इसलिए कि जाति है कि जब जब भी मानवता पर किसी भी तरह का विष हावी हुआ है या कोई तकलीफ आयी है वह तकलीफ भगवान शिव ने अपने आप पर ले कर मानवता की रक्षा की है।

पुराणों अनुसार समुद्र मंथन के दौरान बहुत सारी दिव्य वस्तुएं सागर से निकली।जो सभी देवताओं ने अपनी अपनी सुविधा और कर्तव्य स्वरूप ग्रहण कर ली।परंतु जब विष निकला तो वह भगवान शिव ने अपने कंठ में धारण कर लिया ताकि मानवता को उस विष से हानि न हो। संसार के सभी सुख छोड़कर लोक कल्याण हेतु विष पान कर लेने का साहस केवल शिव ही कर सकते थे।उनके इसी साहस और त्याग के भाव को लोग सदियों से पूजते आ रहे हैं। 

आज कलयुग में लोग भगवान शिव की आराधना करते हुए तो दिखाई देते हैं , परंतु त्याग का वह भाव कहीं खो सा गया है।

लोग खुद विष पीकर औरो की रक्षा करना तो दूर अपितु खुद के फायदे के लिए पूरे जग को विषपान करवान पर तुले हैं।

धर्म ,मंदिरों और मस्जिदों के ऐसे ऐसे ठेकेदार पैदा हो गए है, जिनको यह ख्याल नहीं आता कि वह जिस मंदिर या मस्जिद के बाहर खड़े हो कर अपने धर्म का प्रचार कम और नफरत का विष ज्यादा उगल रहे हैं, उसी  के भीतर बैठे भगवान भी इन ठेकेदारों के कर्म यह देख कर शर्म और इन लोगों के प्रति घृणा महसूस करते होंगे । उन्हें खुद के भगवान होने पर अफसोस भी होता होगा क्योंकि उन्होंने भी यह नहीं सोचा होगा कि उन्ही का बनाया हुआ इंसान एक दिन उन्ही को इस तरह से कभी अपनी कुर्सी के लिए तो कभी धन के लिए बेचता फिरेगा।

सच यही है कि आज इन सभी धर्म के दुकानदारों ने कही पैसे के लिए तो कही रुतबे या राजनीति के लिए धर्म पताका पकड़ रखी है । जबकि त्याग या अध्यात्म से इन लोगों का कोई लेना देना नहीं है। परंतु यह भी सच है कि मृत्यु उपरांत नरक के द्वारपाल सबसे पहले इन्हीं के स्वागत के लिए खड़े मिलेंगे। फिर भी आज महाशिवरात्रि के दिन मैं दो पंक्तियों से मेरी बात खत्म करूँगा -


*जिसने मरना सीख लिया है जीने का अधिकार उसी को* 

 *जो कांटों पर चलकर आए फूलों का उपहार उसी को* 


आप सभी को त्याग के इस महा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं 

ईश्वर आप सभी को इस वर्ष विष पीकर अमृत बांटनें की भावना और शक्ति प्रदान करें।

Latest News

June 25, 2019

पंचायत उप चुनाव ः जिले में 23 वार्डपंच निर्विरोध निर्वाचित

Read More

June 25, 2019

मिसाल डिस्टि्रक हैल्थ रेकिंग में अजमेर द्वितीय स्थान पर

Read More

June 25, 2019

स्मार्ट सिटी योजना में हुए करोड़ों रूपए के विकास कार्य अतिरिक्त जिला कलक्टर ने दी जानकारी, जारी रहेंगे काम

Read More

June 25, 2019

जिला स्तरीय शान्ति समिति की बैठक सम्पन जिले में शान्ति, सौहार्द एवं सद्भाव बनाए रखना हमारी सभी की प्राथमिकता - जिला कलक्टर

Read More

June 25, 2019

आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी से पीड़ित लोगो ने ली न्यायलय की शरण

Read More

June 25, 2019

कलेक्टर सभागार में शांति समिति की बैठक आयोजित

Read More

June 25, 2019

लुटेरो ने माहोल बनाकर एक व्यापारी के स्कूटर से लुटे 2 लाख 65 हजार रूपए

Read More

June 25, 2019

माखूपूरा क्षेत्र स्तिथ जलदाय विभाग पर बंदरो ने मचाया आतंक

Read More

June 25, 2019

राजस्व मण्डल कार्यालय में चोरी

Read More

June 25, 2019

आर एस 2018 की मुख्य परीक्षा हुई आज से प्रारंभ

Read More