RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

हर सितम हमने सहां लेकिन ख़ता कुछ भी नहीं,

Post Views 4

हर सितम हमने सहां लेकिन ख़ता कुछ भी नहीं,
दर्द से बुत हो गये लेकिन कहा कुछ भी नहीं

ज़िन्दगी ने काग़ज़ों का हाशिया समझा हमें,
और शायद इसलिए हमपे लिखा कुछ भी नहीं.

उसको बुत में भी खुदा आने लगा यारों नज़र ,
और जाने क्यूँ मुझे उसमे दिखा कुछ भी नहीं.

इस तरह से अपना रिश्ता हमनें मिट्टी पे लिखा,
लाख तूफां उस पे गुज़रे पर मिटा कुछ भी नहीं.

रात भर जिसको मैं अपनी दास्ताँ कहता रहा,
वो सुबह कहने लगा उसने सुना कुछ भी नहीं.

उसने इक-इक करके सारे दर्द मुझको दे दिए ,
और देने के लिए उसपे बचा कुछ भी नहीं..

रौशनी के दर पे मैंने कि अदा हरदम नमाज़ ,
इन नमाज़ों से मुझे लेकिन मिला कुछ भी नहीं.
        सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Latest News

January 22, 2018

होराइजन ग्रुप ने मनाया वसंत पंचमी का पर्व

Read More

January 22, 2018

कानाखेडी गाव में पहुंचे राम स्वरुप लम्बा

Read More

January 22, 2018

राजस्थान की सरकार भेद भाव की राजनीती करती है

Read More

January 22, 2018

राजपूत समाज पूरी तरह से है भाजपा के साथ |

Read More

January 22, 2018

अजमेर की शुरक्षा को लेकर पुलिस का हाई अलर्ट

Read More

January 22, 2018

निर्वाचन अधिकारी अश्वनी भगत ने अधिकारियो की ली बैठक

Read More

January 22, 2018

पारदर्शिता भाजपा शासन की पहचान - सीआर चौधरी

Read More

January 22, 2018

दस साल से कच्ची बस्ती की बच्चियों को फ्री एजुकेशन, IIT-IIM के सपनों को दे रहे उड़ान

Read More

January 22, 2018

राजपूत समाज भाजपा के ही साथ

Read More

January 22, 2018

पुतिन से प्रभावित US एबेंसडर ने लगाई बर्फीले पानी में डुबकी

Read More