RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
Breaking News
मुख्यमंत्री जन आवास योजना की लॉटरी प्रक्रिया आज से |  अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर उपखण्ड स्तरीय योगाभ्यास कार्यक्रम आज जनप्रतिनिधि, अधिकारी, विद्यार्थी एवं बडी संख्या में आमजन योगाभ्यास में होंगे शामिल |  नकली ऑयल व पार्टस जब्त कर आरोपी को धर दबोचा |  विद्युत लाइन को अन्यत्र स्थान पर लगााने की मांग ग्रामीणों ने डिस्कॉम अधिकारियों के समक्ष किया विरोध |  मोदी की स्पीच से मिला इस कांग्रेस कार्यकर्ता को आइडिया, हर महीने कमा रहा 9 लाख रु. |  मोदी ने देहरादून में कहा- जब समाज को तोड़ने वाली ताकतें हावी हों, तब योग जोड़ने का काम करता है |  इजरायल से पक्षपात का आरोप लगाते हुए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से अमेरिका बाहर हुआ |  महज 25% भारतीय वयस्क करते हैं इंटरनेट का इस्तेमाल, दक्षिण कोरिया में सबसे ज्यादा 96% यूजर: रिपोर्ट |  फिल्म प्रमोट करने ईशान संग जयपुर पहुंची जान्हवी, बोलीं- मुझे मम्मी जैसी एक्टिंग करनी है |  दाती के बाद उनके भाई भी क्राइम ब्रांच पहुंचे, बोले- 32 करोड़ के लिए उन्हें फंसाया गया | 

ये अस्पताल है या आम रास्ता?

Post Views 8

कहने को यह साइलेंट जोन है और यहां हॉर्न बजाना मना है लेकिन प्रेशर हॉर्न गूंजते हैं। जहां वातावरण शांत होना चाहिए वहां वाहनों की रेलमपेल रहती है। यह नजारा है राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय परिसर का जो अब आम रास्ता बन चुका है। हालात यह है कि दिनभर चिकित्सालय के मुख्य गेट के समीप से भारी वाहनों की आवाजाही बनी रहती है। तेज गति से गुजरते वाहन हादसों को न्यौता देते हैं। मरीजों को परेशानी होती है सो अलग। इन सबके बावजूद न तो यातायात पुलिस इस ओर गंभीर है और न ही चिकित्सालय प्रशासन कोई कार्रवाई कर पा रहा है। 

चिकित्सालय परिसर के सामने से दिनभर भारी वाहनों की आवाजाही बनी रहती है। हालांकि चिकित्सालय प्रशासन ने गेट के सामने वाहनों की रोकथाम के लिए पिल्लर लगाकर चैन लगाई  है। लेकिन यहां केवल एम्बुलेंस निकलने के लिए छोड़Þी जगह में से लोग वाहन निकालते हैं। कई बार तो वाहन चालक मुख्य गेट के पास ही अपना वाहन खड़ा देते है। इससे मरीजो एवं उनके साथ आने वाले परिजन को परेशानी का सामना करना पड़ता है। हालात ये होते हैं कि वाहन चालक जल्दबाजी में निकलने के प्रयास के तेज प्रेशर हॉर्न का उपयोग करने से भी गुरेज नहीं करते है। इससे चिकित्सालय में भर्ती मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। कई बार तेज गति से गुजरते वाहनों से हादसे की आशंका रहती है।

निरीक्षण में जताई थी आपत्ति 

चिकित्सालय में चल रही कायाकल्प योजना का निरीक्षण करने ब्यावर आई टीम के सदस्यों ने भी चिकित्सालय परिसर में इस प्रकार वाहनों की आवाजाही पर ऐतराज जताया था। उन्होंने कहा कि यहां चिकित्सालय में आने वाले मरीजों के लिए ये वाहन चिकित्सा सुविधा में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं। टीम ने वाहनों की आवाजाही पर रोक लगाने की जरूरत बताई थी। इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन ने कोई कदम नहीं उठाया है।


Latest News

June 20, 2018

मुख्यमंत्री जन आवास योजना की लॉटरी प्रक्रिया आज से

Read More

June 20, 2018

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर उपखण्ड स्तरीय योगाभ्यास कार्यक्रम आज जनप्रतिनिधि, अधिकारी, विद्यार्थी एवं बडी संख्या में आमजन योगाभ्यास में होंगे शामिल

Read More

June 20, 2018

नकली ऑयल व पार्टस जब्त कर आरोपी को धर दबोचा

Read More

June 20, 2018

विद्युत लाइन को अन्यत्र स्थान पर लगााने की मांग ग्रामीणों ने डिस्कॉम अधिकारियों के समक्ष किया विरोध

Read More

June 21, 2018

मोदी की स्पीच से मिला इस कांग्रेस कार्यकर्ता को आइडिया, हर महीने कमा रहा 9 लाख रु.

Read More

June 21, 2018

मोदी ने देहरादून में कहा- जब समाज को तोड़ने वाली ताकतें हावी हों, तब योग जोड़ने का काम करता है

Read More

June 21, 2018

इजरायल से पक्षपात का आरोप लगाते हुए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से अमेरिका बाहर हुआ

Read More

June 21, 2018

महज 25% भारतीय वयस्क करते हैं इंटरनेट का इस्तेमाल, दक्षिण कोरिया में सबसे ज्यादा 96% यूजर: रिपोर्ट

Read More

June 21, 2018

फिल्म प्रमोट करने ईशान संग जयपुर पहुंची जान्हवी, बोलीं- मुझे मम्मी जैसी एक्टिंग करनी है

Read More

June 21, 2018

दाती के बाद उनके भाई भी क्राइम ब्रांच पहुंचे, बोले- 32 करोड़ के लिए उन्हें फंसाया गया

Read More