RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307

horizon hind news ajmer-youtube

10th Sep 18

ई - पेपर

Breaking News
राजीव गाँधी ब्रिगेड ने फुका प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला |  4 दिनों में समझोते को राज्य सरकार ने नहीं किया लागू तो होता उग्र आन्दोलन |  स्थाई मान्यता की मांग कर रहे विधि महाविधालय के छात्रों ने फुका मुख्यमंत्री का पुतला |  वार्ड 60 की अमरदीप कॉलोनी की सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास |  30 द्विपक्षीय बैठकों में शामिल होंगी सुषमा, ब्रिक्स-सार्क देश के नेताओं से भी मिलेंगी |  महासभा में तीन महीने की बेटी के साथ पहुंची न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री, ऐसा पहली बार हुआ |  पितरों का तर्पण करने गए थे, फंस गए 500 श्रद्धालु |  घनश्याम तिवाड़ी आरक्षण का नया फॉर्मूला लाए |  जीप और मिनी बस की आमने सामने की टक्कर में चार की मौत, छह लोग हुए घायल |  हाथों में धर्म का कच्चा धागा बांधे युद्ध के मैदान में उतरे सियासी दल | 

रघु की नीति: सुरेंद्र चतुर्वेदी

Post Views 9

October 26, 2017

रघु की नीति: सुरेंद्र चतुर्वेदी


 रघु की रीति यही चल आयी, वोटन के दिन शक्ल दिखाई। नेताजी रघु शर्मा अचानक अजमेर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करते हुए नजर आए तो अजमेरियों का दिमाग बिजली के मीटर जैसा चलने लगा। चुनाव हारने के बाद जो गधे के सिर से सींग की तरह गायब हो गया था वह नेता अचानक हिरनाकश्यप की तरह खंबे से बाहर आ गया। जिले की समस्या अचानक इतनी बड़ी कैसे हो गई कि  नेता जी को नज़र आने लगीं।केकड़ी अचानक फिर से याद आने लगा। उनके हाथ पांव हिलने लगे। अंग-प्रत्यंगों में करंट आ गया ।

कुछ अजमेरिये  मेरे पास आकर बोले "रघु शर्मा क्या चुनाव लड़ेंगे" अपुन मुस्कुराए और बोले. रघु शर्मा कांग्रेसी अखाड़े का पुराना पहलवान है। राजस्थान केसरी रह चुका है ।बाहुबली है ।अशोक गहलोत के जमाने में उसकी ताकत का कोई अंदाजा नहीं लगा पाता था ।सही मायने में वह मिनी चीफ मिनिस्टर हुआ करता था। तबादलों की राजनीति में माहिर। कोई सा भी मंत्रालय हो फाइल पर अगर रघु शर्मा का आशीर्वाद पैदा करवा दिया जाता था तो काम बिना बाधा हो जाता था। खास तौर से प्रशासनिक अधिकारियों के ट्रांसफर और बाद में उन के जरिए बड़े से बड़े काम करवाने में उनका कोई सानी नहीं था ।पता नहीं किस चक्कर में उनकी अशोक गहलोत जी से अनबन हो गई ।

मुमकिन है कि उनके सुकृत्यों से  गहलोत जी को अलग किस्म की खुशबू आने लगी हो ।कुछ तो हुआ ही होगा वरना गहलोत भैया नाहक  क्यों अपने मजबूत पहलवान को नाराज होने देते ।आम दिनों में कई सालों तक अजमेर की ओर पीठ करके खड़े हुए रघु शर्मा अब  फिर मैदान में हैं  ।जैसे सचिन पायलट साइकिल पर सवारी करने अजमेर आ गये थे ।अब वे कांग्रेस की ओर से उम्मीदवार नहीं होना चाहते। जानते हैं कि ये  अजमेरिये कुछ भी कर सकते हैं ।

वह गद्दी और गधी में अंतर समझते हैं। इसलिए रघु शर्मा उन्हें कद्दावर गुब्बारा नजर आए ।बुलाकर फुस्स हुए गुब्बारे में हवा भरी। तनाव आ गया। साला  मैं तो साहब बन गया ,साहब बन के कैसा तन गया। 

प्रदर्शनकारी के रूप में उन्होंने अवतार लिया । उनके चिलगोजे जबरदस्त मोर्चाबंदी करने लगे।व्यवसायी संगठित हो गए । शर्मा जी पहलवान हो गए।जे पी साहब ने फिर सूती शर्ट की बाजू चढ़ा ली।ब्राह्मणवाद की शहनाई बजने लगी।और लो फिर एक नेता मैदान में आ गया।

 जमूरे आजा ।आ गया।तू कौन?जमूरा। मैं कौन ?मदारी .डमरु बजने लगा है।लेकिन वक्त डमरू की खाल बजा कर कब फाड़ेगा यह जमूरा नहीं जानता ।यदि हार  का जरा भी डर नहीं होता तो खुद पायलट क्यों नहीं चुनाव लड़ते। फटी हुई----------( एड़ी) में वैसलीन क्यों लगाई जाती ।हम तो बात कर रहे हैं नतीजा पब्लिक के हाथ में है।

Latest News

September 25, 2018

राजीव गाँधी ब्रिगेड ने फुका प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला

Read More

September 25, 2018

4 दिनों में समझोते को राज्य सरकार ने नहीं किया लागू तो होता उग्र आन्दोलन

Read More

September 25, 2018

स्थाई मान्यता की मांग कर रहे विधि महाविधालय के छात्रों ने फुका मुख्यमंत्री का पुतला

Read More

September 25, 2018

वार्ड 60 की अमरदीप कॉलोनी की सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास

Read More

September 25, 2018

30 द्विपक्षीय बैठकों में शामिल होंगी सुषमा, ब्रिक्स-सार्क देश के नेताओं से भी मिलेंगी

Read More

September 25, 2018

महासभा में तीन महीने की बेटी के साथ पहुंची न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री, ऐसा पहली बार हुआ

Read More

September 25, 2018

पितरों का तर्पण करने गए थे, फंस गए 500 श्रद्धालु

Read More

September 25, 2018

घनश्याम तिवाड़ी आरक्षण का नया फॉर्मूला लाए

Read More

September 25, 2018

जीप और मिनी बस की आमने सामने की टक्कर में चार की मौत, छह लोग हुए घायल

Read More

September 25, 2018

हाथों में धर्म का कच्चा धागा बांधे युद्ध के मैदान में उतरे सियासी दल

Read More