RNI NO : RAJBIL/2013/50688
For News (24x7) : 9829070307
booked.net - hotel reservations online
+43
°
C
+43°
+38°
Ajmer
Saturday, 08
See 7-Day Forecast
Visitors Count - 50107470

6 करोड ग्रीन टैक्स वसुलने वाला डीटीओ पेड लगाने में रहा फिसड्डी

Post Views 7

July 11, 2019

ब्यावर, (हेमन्त साहू)। ग्रीन टैक्स के नाम
पर भले ही पांच साल में वाहन मालिकों से 6
करोड़ 18 हजार रुपए झटक कर
परिवहन विभाग अपना खजाना ही भरता
रहा, लेकिन हरियाली की ओर कोई ध्यान
नहीं दिया। परिवहन विभाग की ओर से
वाहनों के पंजीयन के समय हल्के व भारी
वाहनों के हिसाब से ग्रीन टैक्स वसूल किया
जाता है। यह टैक्स वसूल करने के पीछे
सरकार की मंशा यह है कि वाहनों से होने
वाले प्रदूषण को कम करने के लिए संबंधित
क्षेत्र में सघन पौधारोपण कर हरियाली
विकसित की जाए।

वहीं विभाग ने वर्ष 2014 के मुकाबले वर्ष
2017 में सरकार ने नए वाहन खरीदने वालों
की जेब पर ग्रीन टैक्स का भार तो तीन
गुणा बढा दिया है, लेकिन प्रदूषण कम
करने के लिए जिम्मेदार विभाग हरियाली
विकसित करना ही भूल गए। जिला परिवहन
कार्यालय के अधीन ब्यावर उपखंड व मसूदा
उपखंड 2 लाख 6 हजार कुल वाहन पंजीकृत है,
इसमें 1 लाख 176 हजार दुपहिया वाहन की संख्या
है। ग्रीन टैक्स के नाम पर परिवहन
विभाग ने वाहनों के पंजीयन के समय हल्के व
भारी वाहनों के मालिकों से पिछले पांच
साल में राशि वसूली थी, लेकिन टैक्स की
राशि का उपखंड में उपयोग नहीं हो रहा
है।
विभाग के अधिकारियों ने बताया कि
जुलाई 2014 में परिवहन विभाग की ओर से
दुपहिया वाहन के पंजीकरण पर 250 रुपए,
एलएमएल 1500 सीसी क्षमता के इंजन वाले वाहन
से एक हजार रुपए, 1500 से अधिक व 2000 सीसी
तक के वाहन से एक हजार रुपए, 2000 सीसी से
अधिक क्षमता के इंजन वाले वाहन से 1000 रुपए
तथा 2000 सीसी से अधिक क्षमता वाले वाहन से
5000 हजार रुपए ग्रीन टैक्स वसूल किया
जाता था। लेकिन 11 अक्टूबर 2017 को यह
टैक्स तीन गुणा बढा दिया, अब यह टैक्स
क्रमश: 750 रुपए 2500, 3500, 5000 व 7500 रुपए

वसूला जा रहा है। लेकिन इसका मकसद
पूरा नहीं हो पा रहा है।
इस संबंध में विभाग के जिम्मेदार
अधिकारियों से बात की तो उन्होंने अपने आप
को लाचार बताते हुए कहा कि हम तो जितना भी
ग्रीन टैक्स वसूलते है, मुख्यालय को भेज देते
है। टैक्स हरियाली पर खर्च करने के
लिए होता है, लेकिन हमारे पास ऐसे कोई
आदेश नहीं होने से हम कुछ नहीं कर पाते
है। ऐसे में उपखंड में लगातार बढ रहे
वाहनों से तापमान में भी बढोतरी होती जा
रही है। गर्मी के सीजन में सूरज की तपन व
वाहनों के धुंए से फैल रहा प्रदूषण मानव
जीवन के लिए खतरनाक साबित हो रहा है,
इंसान को सांस लेने में तकलीफ, घबराहट,
चर्मरोग सहित कई तरह के रोग इसी वजह से हो
रहे है। बीते 4 वर्षो में वसुले गए ग्रीन
टैक्स के आंकडो के अनुसार सनï् 2015-
16 69 लाख 13 हजार, 2016-17 1 करोड 52 लाख 6
हजार, 2017-18 1 करोड 88 लाख 34 हजार,
2018-19 2 करोड 08 लाख 88 हजार रुपये
वसुले गए। यानि कुल
6 करोड 18 लाख 41 हजार हजार रुपये
बीते 4 वित्तीय वर्ष में टैक्स के रुप में प्राप्त
हुए।
ब्यावर जिला परिवहन अधिकारी देवकीचंद
ढाका ने बताया कि ग्रीन टैक्स सीधा
परिवहन विभाग के रेवेन्यू विभाग में

जाता है। हमारे पास एक रुपया भी खर्च नहीं
होता है। लोकल स्तर पर इसमें जमा ही करा
सकते है, निकालने का कोई प्रावधान नहीं
है। यह सही है कि टैक्स हरियाली के लिए
लिया जाता है।

Latest News

July 21, 2019

आदर्श नगर थाना क्षेत्र में एक युवक का अपहरण

Read More

July 21, 2019

रेलवे हॉस्पिटल के सामने पेट्रोल पंप में घुसी कार

Read More

July 21, 2019

सीआरपीएफ के जवानों की साईकिल रैली

Read More

July 21, 2019

बातों में फंसा का ठगी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

Read More

July 21, 2019

इनरव्हील क्लब की नए कार्य करने की घोषणा

Read More

July 21, 2019

कला अंकुर खोज 2019 का आगाज

Read More

July 21, 2019

तारागढ़ रोड पर चल रहे सट्टे पर रामगंज थाना पुलिस ने दी दबिश

Read More

July 21, 2019

परशुराम सर्किल पर ब्राह्मण समाज ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि

Read More

July 21, 2019

अजब ब्लॉग की गज़ब कहानी

Read More

July 21, 2019

जिसकी पूंछ उठाओ वही मादा - सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Read More